गोबर की माला (भरभोलिए) से करें माला घाेलाई की रस्म

शेयर करे

होली वाले दिन भाई के माला घोलाई की परम्परा है। आजकल होली के दिन माला घोलाई रस्म भाई को पुष्प माला पहनाकर की जा रही है, जो गलत है। इन्ही पुष्प माला को होली में डाला जा रहा है जो पूर्णतया निषेद्ध है । तो आइये जानते क्या करना चाहिये जिससे भाई की रक्षा दैहिक रक्षा हो और पर्यावरण शुद्ध हो तथा स्वयं बहन के लिये भी मंगल हो । क्या होते है भरभोलिये:- (रमक झमक) देशी गाय के गोबर को हाथ से जमीन पर रखकर थेपडीनुमा गोल लगभग 3…

शेयर करे
Read More

अब हर रोज 11:56 पर भूरी में भगवान- बीकानेर होली

शेयर करे

पहले साफी साफ कर पीछे रंग लगाय! चला जाए कैलाश को शिव को शीश निवाय!! दाऊ के दयाल बृज के राजा ! भांग पीवे तो भेरूकुटिया आजा!! हरी में हर बसे भूरी(भांग) में भगवान वैसे तो भांग जिन्हें भांग प्रेमी व शिव भक्त विजया कहते है,रोज 11:56 जो अभिजीत मुहूर्त होता है उस समय मन्त्रो भजनों के साथ बड़े जोश उल्लास और आध्यात्मिक माहौल बनाकर भांग घोटते व छानते है लेकिन होली में होलका के साथ हर रोज किसी न किसी मोहल्ले में लोग अपनी स्वेच्छा से भांग महोत्सव करवाते…

शेयर करे
Read More

तणी का वीडियो देखे जाने क्या है, धुलंडी के दिन पुरे शहर ने खेली एकसाथ होली

शेयर करे

तणी का वीडियो देखे जाने क्या है, धुलंडी के दिन पुरे शहर ने खेली एकसाथ होली

शेयर करे
Read More

होलिका दहन और पानी खेल वीडियो, देखिये बीकानेर की होली

शेयर करे

होलिका दहन और पानी खेल की कुछ झलकियां  

शेयर करे
Read More

सबसे अनोखी बीकानेर होली की सभी विशेषताएं जानिए

शेयर करे

देश की सबसे अनूठी व निराली होली !बीकानेर की !! (प्रहलाद ओझा ‘भैरु’, संस्कृतिकर्मी) होली का त्योंहार पूरे देश मे मनाया जाता है और क्षेत्र की होली अपने आप मे विशेष है । लेकिन बीकानेर की होली बड़ी खाश,अनूठी व निराली है । मौज, मस्ती, अल्हड़पन, केशर होली,स्वांग होली, राख,धूल,पानी,रंग,चंग,धमाल,गीत,गैर,तणी,एक दो साढ़े तीन डांडिया,दूल्हे की बारात,पानी मार डोलची खेल, मूर्ख सम्मेलन,भांग सम्मेलन,दादा से पौता तक एक ही मंच पर गाते है अश्लील गाने व ढूढना,गेवरियो की टोलियां के साथ देर रात तक चलने वाली रम्मत और स्त्री पुरुषों के बीच…

शेयर करे
Read More

रंग लगाने से हटेंगे मतभेद, आएंगी खुशियां

शेयर करे

रंग लगाने से हटेंगे मतभेद, आएंगी खुशियां जीवन में रंग न हो तो जीवन सूना सूना हो जाता है । दुनियां सप्त रँगी है और रंगों का जीवन पर असर शत प्रतिशत होता है ।होली पर सब लोग रंग से खेलते है लेकिन पता हो कि कौनसा रंग हमारे शरीर को शुटेबल है और जिसका ज्योतिषीय दृष्टिकोण व रंग थेरेपी का सकारात्मक असर होता हो,तो होली वास्तव में खुशनुमा त्योंहार बन सकता है अन्यथा तो आजकल लोग रंग लगाते है जलाने, चिढ़ाने या नुकसान के भाव से ।(ramakjhamak) इसबार की…

शेयर करे
Read More

बिस्सो के चौक और भट्दो के चौक में हुई रम्मत

शेयर करे

रात १२ बजे बिस्सो के चौक में रम्मत शुरू हुई जो शुबह १० बजे तक चली । शुरुआत में आशापुरा माता के रूप धर आने से रम्मत की शुरुआत हुई माता के दर्शन व रम्मत देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग बिस्सो के चौक में पहुचे । सुबह तक चली रम्मत में मानो रात में भी दिन सा नज़ारा था । पुरे चौक में और घरो की छतों पर से लोग रम्मत देख रहे थे और रात भर स्वांग धरे युवक इधर उधर घूम रहे थे । वही…

शेयर करे
Read More