यज्ञोपवीत व विवाह के पूजन व घर के सामान की तैयारी हेतु सामग्री

शेयर करे

यज्ञोपवीत व विवाह के पूजन व घर के सामान की तैयारी हेतु सामग्रीः-

हाथधान सामग्रीः-
कुंकु,सुपारी,चावल,मोली,गुड़ डली,लौग,ईलायची,नारीयल,जनेऊ जोड़ा,सफेद वस्त्र,दाल मोठ री पिस्योडी,आटे हल्दी रा फल,आटे री लडूंड़ी,आटे रो चुथो प्रशाद,लखदब,अटाल के लिये मेट,छाछ,लोहे की कड़ाई,कूँची यानि चाबी, गर्म पानी,सिक्का, बेलन,पुराना मावड़,छाजला 2,लौंकार,बन्ने का केशरिया कपड़ा,गेड़ियो,बटुओ,मूंग साबुत,सप्त धान,पालसिया,चांदी री अंगूठी, पाटा चौकी

मातृका स्थापनाः-
कुंकु,सुपारी,चावल,मोली,गुड़ डली,लौग,ईलायची,नारीयल,जनेऊ जोड़ा,लापसी,खाजा,मगद के लाडू, मूँझ,हांडी2,लाल लौकार,गोबर,लाल कपड़ा,लोहे के कील या खूंटी 2,रुई,घी,खिचड़ी सुखी,सकोरा 2, माचिस, अगरबत्ती,घण्टी,

गणेश परिक्रमा(छिंकी)ः

कुंकु,सुपारी,चावल,मोली,गुड़ डली 8 नग,लौग,ईलायची,नारीयल,जनेऊ जोड़ा,कच्चो दूध,झारी,हरी पत्ती की डाली,सिक्को,कुलड़ो,काजल डिब्बी,आटे हल्दी की चौमक,पुष्प माला 4,पुराना मावड़,कंसुबल कपड़े में लूण री पौटलि,लूणा पानी रो कुलड़ो,रुई,घी,माचिस

यज्ञोपवीतः-

कुंकु,सुपारी,चावल,मोली,गुड़ डली, पताशा,मिश्री,लौग,ईलायची,नारीयल,
जनेऊ जोड़ा 2 बड़ा,कच्चो दूध,दही,खांड-चीणी,पंच गव्य,घी,तैल,ईंट,सिन्दूर,मालिपाना,धूप दीप अगरबत्ती,इत्र,कपूर,आटे हल्दी के फल, शहद,सप्त धान,ऋतुफल,कुलडा,सकोरा,दीपक,पाटी,घोटो,खड़ाऊ,कमण्डल,गोथली,गंजी,गमछों,मृगछाल,मूँझ,लँगोट रो कपड़ो,ताँबाड़ी,समिधा,आसन,भस्मी,चन्दन,धोती,छिरपली,दशौषधी,सतावर,सरस्यो,पँचरत्नो,तिल,जव,लाल कपड़ो,सफेद कपड़ो,रेशमी कपड़ो,रुद्राक्ष कण्ठों,पीतल रो टोपियों,सोने री टुकड़ी, सोने री सलाख, चांदी री तिकड़ी,कांसी रो कटोरों,ताम्बे रो लोटो,पीतल रो लोटो,कोरा पान,कांसी री थाली,गायत्री मूर्ति या चित्र,तांबड़ो परात,खाजा,पुष्प माला, पाटो-चौकी,घण्टी, काशी गमन की दौड़,गेड़ियो व लौकार, लूणा पाणी रो कुलड़ो,

मायराः-
कुंकु,सुपारी,चावल,मोली,गुड़ डली,लौग,ईलायची,नारीयल,जनेऊ जोड़ा,आटे के फल,मिश्री,झारी, दूध,बटुक के नवीन वस्त्र,रीत परम्परा अनुसार सिक्के व बटुक के परिवार वालो के कपड़े

विवाह पूजन व घर की तैयारी हेतुः-(विवाह कार्यक्रम से पूर्व ही सुआ(जन्म) सूतक शौच(मरण) न लगे इसलिये वरणी बंधवा लेनी चाहिये )

लग्न पूजाः-
कुंकु,सुपारी,चावल,मोली,गुड़ डली,लौग,ईलायची,नारीयल2,जनेऊ जोड़ा,आटे के फल,मिश्री,काजल डिब्बी,खोले रो रुपयों,माला, लग्न पत्रिका व पानी का कलश
लगन से पहले कन्या के घर से भुवा व बहन -इंदौरी टिकी की रस्म अदा करे ।

हाथधानः-
(उपरोक्त यज्ञोपवीत के हाथधान की तरह ही लगभग सामग्री होगी) वर पक्ष बन्ने के लिये लोहे का गेड़िया व वधु पक्ष वाले बन्नी के लिये पँजिया शामिल करें ।

मातृका स्थापनाः-
(उपरोक्त यज्ञोपवीत में
मातृका स्थापना के लगभग वही तैयारी होगी, साथ में हांडी 2 की जगह 4,खूंटी 2 की जगह 4,सकोरा भी 4, व 2 तोरण होगा ।

दाल देनाः-
– मोठो री दाल 7 किलो,मिर्च लाल पिसियोड़ी 7 किलो, धोणा साबुत 1किलो, हल्दी,गुड़ भेली,नारियल,काली मिर्च,लौंग,जायफल,जावित्री,खोल भराई रुपया ।
कन्या के घर से एक तोरण व जवार- पालसिया भी साथ में ही ले जाते है ।

गणेश परिक्रमा(छिंकी)ः-
(गणेश परिक्रमा भी लगभग उसी तरह होगी । शादी में परिक्रमा वर /वधु के घर के आगे जाती है )

मायराः- (लगभग उसी तरह ही होता है,इसमें वधु पक्ष के यहां आने वाले मायरा में होने नानियाल से वर के लिये भी उसमें कपड़े आते है, बाकी अपनी रीत रिवाज के अनुसार समझे )

आटी व दूध :- मोली व सूत की आटी का गेंडा,लहंगा(हास्य विनोद) खोल,मिश्री,काजल,दूध सकोरा,जवार पालसिया,

खिरोड़ाः-

कुंकु,सुपारी 21,चावल,मोली,गुड़ डली,लौग,ईलायची,नारीयल2,जनेऊ जोड़ा,आटे के फल,मिश्री,काजल डिब्बी,पुष्प माला, झारी,हरी पत्तियां डाली,बीटली,कोकोण डोरो,बीन रा कपड़ा,पेचों,कच्चो दूध रो कलश,कन्या दान री अंगूठी,रोकडी रुपया,बड़ो जनेऊ जोड़ो वर वास्ता,बड़ बेलो,मिश्री रो कुन्जो,गुड़ भेली,बड़ पापड़ रीत अनुसार 7 या 9 बड़ पापड़ के हिसाब से उतने ही खेलरा फोफलिया, दाल,मूंग, नारियल, चीणी ,बड़ी व पापड़ आदि ।

अमझर पूजाः-

कुंकु,केशर,कपूर,कस्तूरी,पेवड़ी,तैल शीशी,मेहंदी,कंसुबल छैल छबिलो,पठा बींटी,फल घुघरा,कांग्सी,दमेदा,खोपरा 8,

घोड़ी पूजाः-
घोड़ी के तिलक व चने की दाल भीगी हुई सवा किलो,

पौखनाः-
वर को पौखने के लिये बंधा हुवा दही,चांदी का सिक्का,बेलन,बिलौने री डोरी,पायजेब-पॉयल, मिश्री,काजल डिब्बी,कुंकु,चावल,मौली,सरस्यो,कमर रो पट्टो, वर को खड़ा करने या घोड़ी से उतारने के लिये पाटा-चौकी

माया-हथलेवा -चवँरीः-

कुंकु,सुपारी,चावल,मोली,गुड़ डली,सिक्को, पताशा,मिश्री,लौग,ईलायची,नारीयल,पेड़ा,कोरा पान, जनेऊ जोड़ा 2 1, इत्र,पुष्प मालाएं,आटो,हल्दी,सप्त धान,दशौषधी,सत्तावर,सरस्यो,पंच रत्नों, सफेद कपड़ो,लाल कपड़ो,खूंटी 4,डवलियो,खाजा,मगद,ताँबाड़ी,सोने री टिकड़ी,रुई,माचिस,तांबे रो लोटो,सफेद धोती,गंजी,गमछो,टोपियों,कुलड़ो2, सकोरा 11,झारी,मूँझ,बे चवरी बर्तन, 4,घी,बीटली, पन्वरी,पाठो,समिधा,पाटा चौकी,कपूर,काँच,झुंझुनियों,कासी कटोरों,सफेद कागच,बेकलु मिट्टी,हरी पत्तियां,हथलेवे रो कपड़ो,धूप,हथलेवा छोडाई रकम रीत अनुसार व मेहंदी

बरीः-
कुंकु,सुपारी,चावल,मोली,गुड़ डली, पताशा,मिश्री,लौग,ईलायची,नारीयल,कोरा पान, जनेऊ जोड़ा,आटे का फल,गुड़ भेली,बरी रा कपड़ा,बरी रा आभूषण,फल घुघरा,पठा बीटी,फुलका 21,मूंग बाकला,मेहंदी सुखी,दमेदा,खोपरा,पंसारी पुडा,मोली गेंडा,तेल शीशी,कांच,कागसियो,काजल,मिढी हाथ रुपया नेक

गुड्डी जानः-
माता गवरजा, तम्बोलन,आल थाळ, स्याऊ, हींग बगार धुपियो.

 

शेयर करे

Related posts

Leave a Comment