शेयर करे
पुष्करणा “सावा” ओलंपिक परिचय पुष्करणा नाम कैसे पड़ा
ओलम्पिक पुष्करणा सामूहिक सावा परम्परा सावा परम्परागत कार्यक्रम
विवाह के प्रचलित गीत पुष्टिकर विवाह हेतु उपयोगी सामग्री की सूची
पुष्करणा ब्राह्मणों के चौदह गौत्र और चौरासी जातियां दूल्हे का पौराणिक स्वरूप
छींकी का वेद मंत्र यज्ञोपवित संस्कार
डाउनलोड हिन्दी विवाह गीत  पुष्करणा विवाह रीति रिवाज के पीछे गहरी सोच व तर्क

विवाह के विस्तृत गीत

पुष्करणा सावा 2019

 

Var aur Vadhu

पुष्करणा सावा झलकियाँ

picsart_12-22-10-16-30

 

 

 

 

 

 

पुष्करणा सावा 2017 सम्मान समारोह

फोटो गैलरी

 

dsc_8599-desktop-resolution

 

 

 

 

 

 

फ़ोल्डर विमोचन गैलरी

विवाह हेतु उपयोगी सामग्री की सूची

लग्न का सामान : कुंकु चावल, सुपारी 5 नग, मोली 1 गिंडा, गुड़ 5 डली, नारियल 2 नग, यज्ञोपवीत 2 जोड़ा, लौंग, इलायची, काजल डब्बी 1, मिश्री 1, आटे-हल्दी फल 7 नग। हाथधान का सामान : कुंकु चावल, सुपारी 5, मोली 1 गिंडा, गुड़ 5, गेडियो, पंजियो, बटवो, नारियल 2 नग, यज्ञोपवित 2 जोड़ा, सफेद वस्त्र, दाल पीसी हुई, कुमार लड्डू, छाजला, 2 बेलन, सप्तधान, आटा, हल्दी, तेल (पीठी का सामान), मेट, छाछ, सकोरा 7, मूंग, गुड़, धाना, लाख का ...
Read More

पुष्करणा ब्राह्मणों के चौदह गौत्र और चौरासी जातियां

1-उगथ्य गोत्री श्रेगवेदी, आवश्लायनसूत्री, बाहेती, मेड़तवाल, कॅपलिया, बाछडत्र, पूंछतोड़ा, पाण्डेया, 2- भारद्वाज गोत्री, यजुर्वेदी काल्यायनसूत्री, टंकशाली (व्यास) काकरेचा, माथुर कपटा (बोहरा) चूल्लड़, आचार्य। 3- शाण्डिल्य गोत्री यजुर्वेदी, कात्यायनसूत्री बोधा (पुरोहित) मुच्चन (मज्जा) हेड़ाऊ, कादा, किरता, नवला। 4- गौतम गौत्री, जयुर्वेदी कात्यायनसूत्री केवलिया, तिवाड़ी (जोशी) माधू, गोदा, गोदाना, गौत्तगा। 5- उपमन्यु गोत्री, जयर्वेदी, कात्यायनसूत्री ठक्कुर (उपाधिया) बद्दल, दोढ़, मातमा, बज्झड़। 6- कपिल गोत्री, जयर्वेदी कात्यायनसूत्री कापिस्थलिया (छंगाणी) कोलाणी, झड़ मोला, गण्ढलिया (जोशी) 36 ढाकी। 7-गविष्ठिर गोत्री समावेदी कात्यायनसूत्री दगड़ा, पैढा, रामा, ...
Read More

दूल्हे का पौराणिक स्वरूप

पीताम्बर केशरिया बनियान गेड़ियां लौंकार का छत्र किलंगी मावड़ पेवड़ी श्रृंगार खिड़किया पाग खड़ाऊ ...
Read More

गणेश परिक्रमा (छींकी) का वेद मंत्र

पुष्करणा ब्राह्मणों के विवाहों में छींकी का अपना विशेष स्थान है। इसका शास्त्रीय नाम श्री गणेश परिक्रमा है। इसमें ध्वनि की ही प्रधानता होती है। वेद की पवित्र ध्वनि वधू के घर से वर के घर तक का पथ शुद्ध करती है। सावे पर छींकी वाली तिथि को दिन-रात यह ध्वनि बीकानेर शहर में गूंजती रहती है। पूरे शहर का वातावरण वेदमय हो जाता है। ॐ आशु: शिशानो वृषभो न भीमो घनाघन: क्षो भणश्चर्षणीनाम्॥ सक्रन्दानो$निमिष एक वीर: शत् सेना अजेयत् ...
Read More

यज्ञोपवित संस्कार

पारंपरिक कार्यक्रम देवी देवताओं के मंगल गीत गणेश पूजन हाथधान माया पूजन लड्डूडी चढ़ाना छींकी ...
Read More

 

शेयर करे
Facebook Page
Facebook By Weblizar Powered By Weblizar

Copyright © 2015. All Rights Reserved.