सांस्कृतिक

भादवा महीने में होने वाले मेलों का कैलेंडर जारी

शेयर करे

भादवा महीना मेलों का महीना माना जाता है। इस महीने में कई त्योहार व मेले आते हैं और लाखों लोग पदयात्रा करके मेलों में जाते हैं कई सेवा संस्थान इन दिनों में सक्रिय हो जाती हैं और मेलों में जाने वाले भक्तों की सेवा में लगती है। बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक पूरे आनंद और मस्ती के साथ इस महीने मेलों का आनंद लेते है।
आने वाले त्योहार और मेले में रक्षाबंधन, स्वतंत्रता दिवस, बछ बारस, जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, सियाणा भैरव मेला, पूनरासर मेला, रामदेव जी का मेला और कोडमदेसर भैरव जी का मेला आता है।

शेयर करे

शिव की विशेष कृपा पाने का महिना -भावनाथजी

शेयर करे

शिव की विशेष कृपा पाने का महिना:भावनाथजी

शिव की कृपा पाने का महीना और शिव को प्रसन्न करने का महीना खाशकर भगवान शिव को शीघ्र प्रसन्न कैसे किया जाए ताकि वो भक्त वत्सल होकर अपनी कृपा बरसा दें ये ये उद्गार आज श्रीगंगानगर रोड़ स्थित कानासर फांटा के पास रेतीले धोरों के बीच भावनाथ आश्रम में भगवान शिव के अभिषेक के बाद उपस्थित श्रद्धालुओं को कही। उन्होंने कहा कि श्रावण महीना और खासकर श्रावण का सोमवार को थोड़ी सी की गई पूजा कई गुना फल देती है ,इस महीने का सोमवार भगवान शिव को अति प्रिय है। सन्त भवनाथजी महाराज ने प्रवचन में कहा कि भोलेनाथ को मनाने के लिए और उनसे विशेष कृपा पाने के लिए बेलपत्र का प्रयोग सबसे कारगर उपाय है । 7 पत्तों वाले बिल्व पत्रक पाने वाला परम भाग्यशाली और शिव को अर्पण करने से अनंत गुना फल मिलता है। बेल वृक्ष लगाने से वंश की वृद्धि होती है।
सुबह-शाम बेल वृक्ष के दर्शन मात्र से पापों का नाश होता है।

इस अवसर पर भगवान शिव का रुद्री पाठ से षोडश उपचार पूजन किया गया साथ ही आश्रम में बिल्व पत्र वृक्ष की पूजा समस्त श्रद्धालुओं द्वारा की गई ,विशाल भण्डारा किया गया।
कार्यक्रम में प्रहलाद ओझा ‘भैरु’,किशन गहलोत,अशोक गहलोत व बजरंग भोजासर सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

शेयर करे

जैन यूथ क्लब की युवा टीम गरीब बच्चो को खिलाती है खाना

शेयर करे

जैन यूथ क्लब के युवाओं की टीम पिछले 2 वर्षों से गरीब बच्चो को खिला रही है खाना।

हर रविवार करीब 200 बच्चो को जैन यूथ क्लब युवाओं की मंडली गरीब बच्चो को खाना खिलाने निकलती है सुचारू रूप से हर सप्ताह ये कार्य चलने लगा तो दोस्तो ने मिलकर एक समिति बना दी जिसका कार्य प्रभार पंकज सिंघी संभालते है व इस संस्था के अध्यक्ष है सत्येन्द्र बैध।

ये युवाओं की मंडली हर रविवार 200 बच्चो के लिए झुग्गी झोपडी इलाकों में जाती है और उन्हें खाना खिलाती है। संस्था के विपुल कोठारी ‘ जैन ‘ ने बताया कि इसमें लगने वाला खर्चा समाज व सदस्यों द्वारा लगता है और यह संस्था पिछले 2 वर्षों से लगातार हर रविवार के दिन बच्चो को भोजन करवाती है। इसके अलावा ये संस्था जैन समाज में विभिन्न तरह के सामाजिक कार्य में अपना योगदान देती है।

युवाओं का भलाई और सेवा का यह कार्य सराहनीय है सेवा के लिए अधिक से अधिक युवाओं का आगे आना जरूरी है। समाज के हर तबके में युवा आगे आकर अगर अपने स्तर पर सेवा कार्य में सहयोग करने लगे तो यह सेवा और सुविधा सभी तक और व्यापक स्तर पर पहुंच पाएगी। रमक झमक ऐसे युवाओं का साधुवाद करती है।

जैन यूथ क्लब, सीने मैजिक रोड, बीकानेर।
– पंकज सिंघी
जानकारी – विपुल कोठारी ‘ जैन ‘

आप भी किसी सेवा कार्य में लगातार जुड़े है तो हमें जानकारी जरूर देवे।

देखिए हमारे यूट्यूब चैनल पर सेवा और संस्कृति के बारे में
– पांच रूपये में खाना खिलाने वाली संस्था

शेयर करे

बीकानेर में यहाँ आकर होता है हर समस्या का समाधान

शेयर करे

जानिये जंगल के बीच बने आश्रम में बीकानेर के संत के बारे में
संत भावनाथ जी रामदेव बाबा के अनन्य भक्त है और वे आमतौर पर मौन व्रत में रहते है यहाँ दर्शन करने आने वाले भक्त अपनी हर समस्या का समाधान होने की बात कहते है देखिये वीडियो

शेयर करे

छतो पर लौटे पक्षियों की रौनक, प्यासा ना रहे एक भी पक्षी

शेयर करे

कुछ संस्था तो कुछ व्यक्तिगत तौर पर कर रहे पक्षियों के लिए पालसीया लगाने का काम

छोटीकाशी बीकानेर नगरी में कुछ संस्थाएं तो कुछ व्यक्तिगत तौर पर पशु पक्षियों की सेवा कार्य में लगे हैं। इस भीषण गर्मी में लू के थपेड़ों के बीच पक्षियों के जीने का एकमात्र सहारा पानी ही होता है। पशु पक्षियों की सेवा करना हमारी संस्कृति का हिस्सा रहा है हर घर की छत पर पक्षियों के लिए पालसिया (परिंडा) रखना उनके लिए पानी भरना नित्य कर्म का ही एक भाग है। पुराने घरो और हवेलियों में हम देखते है कि पक्षियों के रहने के लिए विशेष स्थान बनाए जाते थे जिसमे आंधी तूफान बारिश होने पर भी पक्षी सुरक्षित रहते थे लेकिन अब ऐसा बहुत कम ही देखने को मिलता है कि लोग घरों में एक स्थान विशेष रूप से पक्षियों के लिए निर्धारित करें।

पालसिया (परिंडा) रखने की बात हो तो आज कई संस्थाएं और सेवादार पक्षियों के लिए सार्वजनिक स्थानों पर पालसिए रखने का काम कर रहे है। जिनमें रोटरी क्लब, वन्देमातरम मंच, उदय व्यास आदि कई संस्था और लोग है ये नाम उनके है जो मीडिया या सोशल मीडिया के माध्यम से हमें जिन्होंने कम से कम 500 परिंडे यानी पालसियेे लगाने का संकल्प लिया है।

उदय व्यास ने बताया कि उनका इस गर्मी में 501 पालसिये लगाने का लक्ष्य है यही नहीं वे सिर्फ पालसिये लगाते ही नहीं बल्कि उनमें पानी भरा रहे यह भी निश्चित करते हैं। हर रोज वे उन मार्ग से निकलते हुए पानी भरते है जहां उन्होंने पालसिये लगाए है।

संस्थाओं ने खुले मैदानों में पालसियों और पक्षियों के लिए पानी की व्यवस्था की है। ये संस्थाएं और सेवादार धन्यवाद् के पात्र है इनसे प्रेरित होकर अन्य भी इस सेवा करने के लिए आगे आएंगे और जिन्होंने छत पर अभी तक परिंडा नहीं रखा है वे अब रख कर उनमें हर दिन पानी डालना निश्चित करेंगे।
– Radhey Krishan Ojha

सेवा संस्थाओं की जानकारी हमें जरूर देवे मेल या व्हाट्सएप करें।

शेयर करे

देखिये नरसिंह अवतार और हिरण्यकश्यप का वध का वीडियो

शेयर करे

नरसिंह जयंती पर हर चौक में भरा मेला
देखिये नथूसर गेट पर हुए मेले का आयोजन

शेयर करे

देखिये आखातीज पर पतंग उड़ाने पूरा शहर आया छत पर

शेयर करे

पुरे हर्ष उल्लास के साथ मनाया बीकानेर स्थापना दिवस आखाबीज और अखातीज

आप हमारे यूट्यूब चैनल और फेसबुक पेज को लिखे जरूर करें ताकि वीडियो की पोस्ट आप तक सीधी पहुंच जाये

शेयर करे
Facebook Page
Facebook By Weblizar Powered By Weblizar

Copyright © 2015. All Rights Reserved.