मनोरंजन

ये भारतीय बुजुर्ग भी न ! हर बात पर-ऐसा करो वैसा करो और ऐसा मत करो

शेयर करे

ये भारतीय बुजुर्ग भी न ! हर बात पर-ऐसा करो वैसा करो और ऐसा मत करो ।
अरे, दुनियां कहां से कहां पहुँच गई और ये
(दुनियां कही पहुंचे लेकिन अन्तोगत्वा हमारे भारतीय बुजुर्गो व संस्कृति को तो मानना ही पड़ता है हमें गर्व है और आज दुनियां भी मानने लगी है)

– घर में घुसते ही ड्योढी पर पहले हाथ- मुहं पैर धोवो ।
-अस्पताल जाकर आए हो तो पहले नहाओ -शवयात्रा में गए हो तो घर से बाहर नहाओ।
-जन्म और मरण हो तो सुआ और सूतक के निर्धारित दिनों की पालना करो । उस समय रसोई, पनीढा(पानी स्थान) व मन्दिर में हाथ मत लागाओ सूतक वाले अपने बर्तन अलग रखो, सबसे अलग बिस्तर लागाओ।
– मृतक कपड़े बिस्तर फ़ेकदो, बाद मे घर को धोओ और उस झाड़ू भी बाहर फेंक दो और दाह संस्कार क्रिया करने वाले के कपड़े बर्तन भी 10 दिन बाद फेक दो। मृतक की अर्थी को कंधा देने वाले सभी मुंडन करवाओ। क्रियाकर्म करने वाले व्यक्ति का लाल कपडे पहन कर अलग रहना बाहर निकलने कि मनाही क्वारांटिंन जैसे नियमों का पालन चलता आ रहा है।
– 10 दिन तक घर के निजी लोगों के अलावा अन्य पड़ोसी व मित्र उनके घर का सूतक समय का भोजन आदि न करो । 11 वें दिन पूरे घर की सफाई, मटकी बदलना, पानी की टँकी साफ करो, घर मे गौ मूत्र छिड़को, घर के लोग पंच गव्य लो ।

hamare bujurg hamari sanskriti

humari sanskriti hamare bujurgon ki baate

– नाक व मुख छू लिया तो हाथ जूठा हो जाएगा, मत छुओ। छू लिया तो जूठे हाथ भोजन मत परोसो न खुद जीमो। भोजन की थाली अपने से ऊपर चौकी (पाटा) पर रखो। भोजन सब साथ बैठकर लेकिन अलग अलग करो। बहुत सी ऐसी बाते है जो शायद लिखनी रह गई हो इतने नियम से सावधानी रखना चाहे बैक्टीरिया हो या जर्म्स या वायरस हर तरीके से पहले ही सावधानी। आज ये सब अपना रहे है ।

हमारे बुजुर्ग ये सब पालन करते थे और पालन करवाते भी थे। फिर पाश्चात्य प्रभाव शुरू हुआ, हम पर भी कुछ असर आया। आज के पढ़े लिखे लोगों ने उन्हें अनपढ़, गाँव वाले, रूढ़िवादी कहना शुरू किया। हमें भी विदेश की पाश्चात्य संस्कृति शौक़ लगा देखा देखी जूठी होड़ में हमने भी बुजुर्गो की बातों को तवज्जो कम देना शुरू कर दिया। हम भी इस तथाकथित आधुनिक प्रभाव में आने लगे थे ।
आज पूरी दुनियां नतमस्तक हो रही और मान रही है हमारे बुजुर्गो की बाते वो भी शत प्रतिशत। आज गर्व से सीना भर आता है कि वे बिना पढ़े लिखे इतने बड़े वैज्ञानिक थे? उन्होंने हमारे जीवन शैली में वो डाल दिया जो आज पूरी दुनियां नतमस्तक होकर सुरक्षा के लिये भारतीय सनातन संस्कृति की तरफ देख रही है।

कहते है ना कि मुसीबत में अपनी संस्कृति और अपनो की बाते याद आती है। आज पूरी दुनिया मुसीबत में है और आदतें अब हमारे बुजुर्गों की बताई हुई अपनाई जा रही है। बस भूलने की कगार पर थे ! आज हमारी सनातन संस्कृति ने फिर याद दिला दिया, हम भूलने वालों को भी और सम्पूर्ण विश्व को भी कि भारतीय सनातन संस्कति और संस्कृति को मानने वाले पहले भी महान थे, आज भी महान है और माँ भारती की कृपा से आगे भी रहेंगे।

आप इस पर क्या सोचते है बताए हमारे साथ आपका अनुभव भी साझा करें । हम वेबसाइट और सोशल मीडिया के माध्यम से और लोगों तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे।

आर्टिकल – प्रहलाद ओझा ‘भैरु’, बीकानेर 9460502573

शेयर करे

ऐसी 20 वजह जिसके कारण बीकानेर शहर पूरी दुनिया में विख्यात है

शेयर करे

बीकानेर स्थापना दिवस पर विशेष रूप से आप सबके लिए ऐसी जानकारी लेकर आये है जो शायद आपको मालूम नहीं है बीकानेर में दुनिया की ऐसी जगह और शहर से जुड़े ऐसे तथ्य जो सिर्फ बीकानेर से जुड़े है ऐसे चीज़े जो सिर्फ बीकानेर में है और दुनिया में कहीं नहीं तो जरूर देखिये ये वीडियो जो आपको जरूर पसंद आएगा …

 

शेयर करे

भुजिया के अविष्कार की पूरी कहानी जानिए

शेयर करे

बीकानेर का भुजिया विश्व प्रसिद्ध है और इसको सबसे पहले बीकानेर में ही बनाया गया था आज बीकानेर के हल्दीराम बीकाजी और अन्य कई ऐसे ब्रांड है जो भुजिया नमकीन मिठाई विदेशो में भी एक्सपोर्ट करते है। तो आज आप जानिए कैसे सबसे पहले हुई थी शुरुआत..

शेयर करे

गणगौर माता की आरती

शेयर करे

गवरजा माता की आरती
( तर्ज – सांवरसा गिरधारी
)

आंगणियों हरखाओ , बधावो रामा , आंगणियों हरखायो , माँ गवरजा पधारी , माता गिरिजा पधारी . देखो शैलजा पधारी , हरख मनावो ढम – ढम ढोल नगाड़ा बाजे , आभो गरजे बिजळी नाचे , ओ कुण शंख बजावे , बधावो रामा , ओकण शंख बजावे । माँ गवरजा । । 1 । ।

रुण – झुण , रुण – झुण पायल बाजे , सात सुरों में मनड़ो गावे , सुण – सुण मन हरसायो , बधावो रामा , सुण – सूण मन हरसायो । माँगवरजा । । 2 । ।

गळी – गळी में घुड़लो घूमे , लोग लुगायां टाबर झूमे । सुरंगो सुख छायो , बधावो रामा , सुरंगो सुख छायो । माँ गवरजा । । 3 । ।

तीज चौथ सुहावणी आई , सागे प्यार मोकळो लाई इमरत ही ढळकायो , बधावो रामा , इमरत ही ढळकायो । माँ गवरजा । । 4 । ।

कवारी तो संदर वर पावे , परणी रो स्वाग अमर हो जावे . ज्यों पूजे फळ पावे , बधावो रामा , ज्यों पूजे फळ पावे । माँ गवरजा । । 5 । ।

माँ गवरजा ने शीश नवावो , जी भर कर आशीष थे पावो दिन पजण रो आयो . बधावो रामा , दिन पूजण रो आयो । माँ गवरजा । । 6 । ।

आंगणियों हरखायो , हे आनन्द छायो , हे दर्शन पायो , हे सुख बरसायो , हे मन हरसायो , हे वंदन गाऽऽयो । माँ गवरजा । । 7 । ।

गणगौर की आरती (2)

थे म्हारा ईशरदस जी गवरा बाई ने भेजो मै करों गवरजा री आरती
इये आरती में लिलोड़ा नारियल मै रुपया घाला देड सौ..
(इस आरती में सभी अपने अपने पति का नाम लेकर आगे गावे)

Gangaur mata aarti

Gangaur mata aarti

धीना गवर माता की आरती

पहली आरती पहली आरती करुं कसार करुं कसार धीना गवरल लेकर
पूज सब परिवार मांगै ए म्हारी रलियों तू चारो चम्पा कलियों
सिंगासर गवरल साझे तू दे गवरल रे हाथे ।

दूजी आरती दूजी आरती चाढूं पापड़ बड़ी चाढूं पाप बड़ी राज करूं
महलों में खड़ी मांगौ ए म्हारी रलियों तू चारो चम्पा कलियों
सिंगासन गवरल साझे तू दे गवरल रे हाथे ।

तीजी आरती तीजी आरती चादूं पूड़ा चादं पूड़ा धीना गवरल लेकर
पूजू भर भर बायां चूड़ो मांगौ ए म्हारी रलियों तू चारों चम्पा कलियों
सिंगासन गवरल साझे तू दे गवरल रे हाथे ।

चौथी आरती चौथी आरती चादूं धूप चादूं धूप धीना गवरल लेकर
पूजू रूप पूजू रूप मांगो ए म्हारी रलियों तू चारों चम्पा कलियों
सिंगासन गवरल साझे तू दे गवरल रे हाथे ।

पाचवी आरती पाचवी आरती चादूं सूत चादूं सूत धीना गवरल लेकर
पूजू पूत पूजू पूत मांगौ ए म्हारी रलियों तू चारों चम्पा कलियों
सिंगासन गवरल साझे तू दे गवरल रे हाथे ।

छटी आरती छटी आरती चांदू मेंहदी मोली चांदू मेंहदी मोली भाई
भतीजों री अबछल जोड़ी मांगौ ए म्हारी रलियों तू चारों चम्पा कलियों
सिंगासन गवरल साझे तू दे गवरल रे हाथो ।

सातवीं आरती सातवीं आरती चांदू फूल चांदू फूल धीना गवरल कर दो संकट दूर
गवरा माता कर दो संकट दूर मांगौ ए म्हारी रलियों तू चारों चम्पा कलियों
सिंगासन गवरल साझे तू दे गवरल रे हाथे ।

Dhinga gavar mata panthwadi mata

Dhinga gangaur ki kahani panthwadi mata ki puja

शेयर करे

धींगा गवर और पंथवाडी माता की कथा व कहानियां

शेयर करे

धींगा गवरजा की कहानी
( मोम की गुडीया )

कैलाश पर्वत पर शिव – पार्वती बैठा था चैत्र माह शुरु होते ही ” गवरजा ” रा ” बालीकाओं कन्याओं ” द्वारा पूजण शुरु हो गया । पार्वती शिवजी सू बोली कि मैं भी म्हारे पिहर जावणो चाहू , आप हुकम करो तो ।
महादेव जी बोल्या , म्हारी भांग घोटण री व्यवस्था कूण करसी जने पार्वती व्यवस्था रे रूप में एक मोम री गुडिया बनाई और आपरी शक्ति सू उसमें जीव डाल दिया , बा चेतन हो गई पार्वती बे गुडिया ने बतायो कि मैं म्हारे पीहर सू वापिस नहीं आऊ जने तक पन्द्रह दिन , शिवजी ने भांग घोट र देनी है । आ बात शिवजी भी मान र पार्वती ने पीहर जाने री आज्ञा दे दी ।

पार्वती री बनाई मोम री गुडिया , सदैव शिवजी री भांग घोट – घोट समय पर देने लाग गई साथ – साथ में भोलो शंकर सू प्रेम – स्नेह राखण लाग गई । जद पार्वती पन्द्रह दिन बाद पीहर सूं वापिस आई तब बे गुडिया रो शंकर सू स्नेह देख गुस्से हुयगी और बेने उठार घर सू बाहर कचरे में फेंक दी । जद शिवजी समाधि सूं उठीया तो पार्वती सू पूछीयो कि बा गुडिया कठे गई तो पार्वती बोली कि म्हारी अनुपस्थति में थोने भांग घोट र देते देते बा थोसू प्रेम – स्नेह राखण लाग गी तो मैं बेने कचरे में फेक दी । शिवजी बोलीया मैं बेरी सेवा सू प्रसन्न हूँ , बेने कचरे में नहीं फेकनों थो जने पार्वती वापिस गुडिया ने लेणे गई । तब बा गुडिया आई नहीं बोली म्हारा अपमान हो गयो । तब शिव – पार्वती दोनू बोलिया कि थोने थारे मान सम्मान रो स्थान देसो के थां पार्वती री अनुपस्थति में भांग घोटी है , पन्द्रह दिन बाद थोरो ही पूजन गवरजा रे रूप में धीगोणे ही जबरदस्ती ( गवरजा रा पूजन ) हूंसी थोरी स्थापना भी उपर थापन होसी और पूजन री मान्यता , “गवर पूजन” रूप में होसी । उस दिन से पूजन धींगा गवर रूप में हुवन लागयो।

Dhinga gavar mata panthwadi mata

Dhinga gangaur ki kahani panthwadi mata ki puja


धींगा गवर कथा
कोकड़ – मोकड़ ( चतुर्थी से दशम् तक )

एक दिन कुम्हार की खाई में आग लग गई । कुम्हार की दोनों बेटियां जलकर मर गई और फिर दोनों ने राजा के घर जन्म लिया । जिस प्रकार तिल और जौ बढ़ता है , उसी प्रकार वे दोनों बहिनें भी बड़ी हो गई तथा राजा ने एक बेटी को देश राजा के यहां शादी की तथा दूसरी बेटी का भाट राजा के यहां ब्याही । देश राजा वाली बेटी के बचे होते और मर जाते और भाट राजा वाली के बच्चे जीवित रहते । इसी प्रकार कई दिन गुजरते गये तब देश राजा वाली रानी ने कहा कि देखो मेरे बच्चे तो मर जाते है , लेकिन मेरी बहिन के बच्चे जीवित रहते हैं । वह जलने लगी तथा उसने अपनी बहन में घात डालने की सोची और तब उसने अपने नौकरों को पहले गूंदगीरि के लड्डू बनाकर उसमें कीड़े – मकोड़े , बिच्छू इत्यादि डालकर उनसे कहा कि जाओ नौकरों इसे मेरी बहिन के यहां दे आओ तथा कहना कि तुम्हारी बहिन ने सम्भाल भेजी है । तब नौकर उसे भाट राजा के यहां दे आये तथा कहा कि इसे आपकी बहिन ने भेजी है तो उसने कहा कि अभी तो मैं अपनी धींगा गवर माता की पूजा कर रही हूँ आप इसे रख दो । नौकर उसे रखकर चले गये । तभी बाहर से बच्चे खेलते – खेलते आये और बोले कि मां – मां भूख लगी है तो उनकी मां ने कहा कि भूख – भूख क्या करते हो । मौसी ने सम्भाल भेजी है जाकर खा लो। बच्चे जाकर गूंदगीरी के लड्डू तोड़ते है तो उसमें से हीरे – पन्ने माणक मोती दड़ा – दडी आदि बन जाते हैं तो बच्चे कहते हैं कि मां – मां देखो यह क्या है तो उनकी मां कहती है धन वाली मौसी है मिसा – मिसा कर धन भेजा है ।

दूसरे दिन देश राजा वाली रानी नौकरों से कहती है कि जाओ और देख के आओ मेरी बहिन के बच्चे जिये की मरे तब नौकर बच्चों को देखकर रानी से कहते है कि आपके भानजा भानजी या तो इतने कंगले और मैले – कुचले तथा बदसूरत दिखते हैं या आज इतने सुन्दर दिखाई दे रहे है । अगले दिन रानी ने एक घड़े में कलन्दर नाग को मारकर उसमें दूध भरकर नौकरों को दिया औ कहा कि जाओ नौकरों इसे मेरी बहिन के यहां दे आओ । तब नौकर उस दूध के घड़े को लेकर भाट राजा के यहां गये तथा कहा कि रानीजी ने यह आपके लिए भेजा है तब भाट राजा की रानी कहा कि इसे अभी तो रख दो मैं अपनी धींगा गवर माता की पूजा कर रही हूँ । तभी बाहर से बच्चे आये और कहा कि मां – मां भूख लगी है तो मां ने कहा कि भूख – भूख क्या कर रहे हो , मौसी ने दूध भेजा है , जाकर पीलो । तब बच्चो ने घड़े को खोला तो देखते है कि उसमें नौ सौ का हार रखा है । तब बच्चे मां को कहते है कि मां – मां यह क्या है तो मां बोली धन वाली मौसी है । थोड़ा – थोड़ा करके धन भेजी है , कहकर उसने उस हार को कच्चे दूध से धोकर धींगा गवर माता के अर्पण करके पहन लिया । दूसरे दिन देश राजा वाली ने अपने नौकरों से कहा कि जाओ और देख के आओ कि मेरी बहिन के बचे जिये या मरें तब नौकर भाट राजा के यहां जाते हैं और देखते है कि बच्चे तो पहले से भी ज्यादा सुन्दर दिखाई दे रहे है तथा जो हार भाट राजा वाली रानी ने पहन रखा है वो तो रानीजी गले में सोवे तभी वे दौड़ते – दौड़ते महल में जाते हैं और कहते हैं कि रानीजी – रानीजी आपकी बहिन के गले ऐसा हार पहन रखा है जो आपके गले में सोवे । ऐसा सुनकर रानी तिलमिला उठती है और कोप भवन में जाकर सो जाती है तभी राजा आते हैं और कहते हैं कि रानीजी बात क्या है ? आपने आज थाल क्यों नहीं अरोगा तथा इस तरह कोप भवन में आप क्या कर रही है , तब रानी बोलती है , मैं तभी थाल अरोगूगी जब आप भी मेरी बहिन के जैसा हार बनवा कर देंगे । तब राजा कहते हैं कि आपकी बहिन ने तो उसे दिन में गड़ाया होगा लेकिन मैं आपके लिये देश – देश के सुनार बुलाकर गड़वाऊंगा । ऐसा कहकर राजा देश – देश के सुनार कर उस हार जैसा गढ़ने को कहते हैं । जैसे – जैसे सुनार उस हार का नाका जोड़ते है , वैसे वैसे वह खुलता जाता है तब सुनार कहते हैं कि राजाजी यह तो किसी मानवीयों के हाथ का नहीं है यह तो देवताओं के हाथ का गड़ा हुआ हार है ऐसा कहकर वे वहां से चले जाते हैं । जब हार वाली बात रानी जी के बहिन को पता चलती है तो वह महल में दौड़ी – दौड़ी आती है और कहती है कि बहिन तू जीजाजी को क्यों परेशान कर रही है , यह तो तेरा ही भेजा हुआ है । ले इसे तू वापस पहन ले , ऐसा कहकर जैसे ही वह हार रानी के गले में जाता है । वह फट से कलन्दर नाग बन जाती है । तभी रानीजी अपनी बहिन से कहती है कि ऐ ठाली भुली पहले तो मेरे बच्चों को खाया और अब मुझे खाने आयी है । मैं तेरा बच्चा – बच्चा घाणी में मिला दूंगी ।

इस प्रकार एक बार फिर देश राजा वाली रानी के मरा हुआ लड़का होता है । तब वह नौकरों से कहती हैं जाओ रे नौकरों मेरी बहिन को बधाई दे आओ कि आपके जिवणा – जागणा भानजा हुआ है । नौकर भाट राजा के यहां बधाई देने जाते हैं तब रानी कहती है कि अभी तो मैं अपनी धींगा गवर माता की पूजा कर रही हूँ बाद में आऊंगी । धींगा गवर की पूजा करके रानी दौड़ी – दौड़ी देश राजा के यहां जाती है तभी जंगल में बहनोई मिलता है वह उसे बधाई देती है तो वह राजा कहता है कि मरे हुए बेटे की काहे की बधाई लेकिन वह तो बात को सुनी – अनसुनी करके दौड़ती – दौड़ती महल में बहिन को बधाई देती है तो बहिन – बहिन से कहती है आ बहिन पीढ़े माथे पैठ , जैस ही बहिन उस पीढ़े पर बैठती है और उसके घाघरे का स्पर्श छूते ही बच्चा रोने लगता है तब बहिन – बहिन के पैर छूती है और कहती है कि ऐ बहिन तू ऐसा क्या जादू टोना जानती है कि तेरे छूते ही मेरा मरा हुआ बच्चा जी उठा तय भाट राजा वाली रानी कहती है कि मैं कोई जादू टोना नहीं जानती । मेरे तो एक ही ईष्ट है धींगा गवर माता का आज उसी के कारण तेरा बच्चा जीवित हो उठा तथा मेरे मान की भी उसने रक्षा की तब देश राजा बाली रानी कहती है कि ये कब और कैसे पूजी जाती है तो भाट राजा वाली रानी कहती है कि चैत उतरती तीज को बाली गवर उठती है और धींगा गवर पूजनी शुरू होती है तो वह बहिन को कहती है कि इस बार जब धींगा गवर माता को पूजे तो मैं भी तेरे साथ पूंजूगी । बारह महीनों के बाद जब बाली गवर उठती है तथा धींगा गवर शुरू होती है तब देश राजा वाली रानी गवर माता अपनी बहिन के यहां पूजने जाती है । इस तरह 15 दिन गवर पूजन के बाद भाट राजा वाली बहिन को कहती है कि कल हमारी गवर माता पूरी होगी । इसलिए तू कल सिर धो लेना तथा जीजाजी और भानजे सहित यहां आकर पूजा करना । यही भोजन कर लेना ऐसा सुनकर बहिन अपने महल आती है और सारी बात राजा को कहती है तब राजा कहता है कि कल अकेला मैं नहीं मेरी पूरी नगरी गाजे – बाजे के साथ आपकी बहन के यहां गवर पूजने जायेगी । तब अगले दिन सारी नगरी सहित जब भाट राजा के यहां जाने के लिये रवाना होता है , तभी रानी के मन में विचार आता है कि मैं देश की तो धणीयाणी हूं , सेर सोने भार मरू , काले डोरे लाज मरू आज देश राजा रे अठै ब्याही ( शादी ) हुई हूं । भाट राजा रे अठे गवर पूजने जाऊं ऐसा विचार आते ही कुंवर त्रास खाकर गिर जाता है और बेहोश हो जाता है तब राजा रानी से कहता है कि आपने ऐसा क्या सोचा कि मेरा कुंवर बेहोश हो गया तब रानी ने कहा कि मैंने और तो कुछ नहीं विचार किया लेकिन मेरे मन में यह जरूर विचार आया कि देश की धणीयाणी सेर सोने भार मरू , काले डोरे लाज मरू देश राजा रे व्याही भाट राजा रे अठे गवर पूजने जाऊं । तब राजा रानी से कहता है कि रानीजी मुसीबत में तो हिन्दू से मुस्लमान बन जाते हैं तथा मुस्लमान से हिन्दू फिर आप तो अपनी बहिन के यहां पजने ही तो जा रही हो । आप गुनहगारी का प्रसाद बोलो जैसे ही रानी ने गुनहगारी का प्रसाद बोला कुंवर उठ खड़ा हुआ तथा फिर धुमधाम से गवर माता की पूजा की और उजमन किया तथा सारी नगरी ने प्रसाद लिया ।
इस तरह धींगा गवर माता ने अपनी भक्त के विश्वास और मान की रक्षा की ।
बोलो धींगा गवर माता की जय । ।

 

कथा गणगौर
( ग्यारस से पूर्णाहुति तक )

एक साहूकार था । उसके चार बेटे और एक बेटी थी । उसके यहां एक साधु रोज भिक्षा मांगने आता । जब साहकार के बेटे की बहू भिक्षा डालती तो वह साधु कहता “ रातों चुड़लो , राती टीकी , रातो भेष लेकिन जब उसकी बेटी भिक्षा डालती तो वह उसे धोळी टीकी , धोळो चुड़लो , धोळो भेष ” कहता यह क्रम कई दिनों तक चलता रहा तो एक दिन साहूकार की बेटी ने अपनी मां से साधु के आशीर्वाद देने वाली बात कही , तब साहूकार की पत्नी ने कहा कि कल बात उस साधू की अगले दिन जब उसकी बहु ने साधु को भिक्षा डाली तब उसने बहुत को आशीर्वाद के रूप में उसे रातो चुड़लो , राती टीकी और रातों भेष कहा और जब उसकी बेटी ने भिक्षा डाली तब उसने बेटी को आशीर्वाद के रूप में धोळी टीकी , धोळो चुड़लो और धोळो भेष कहा यह सब साहूकार की पत्नी ने देखा और साधु से कहा कि आप इस तरह से मेरी बेटी और बहु को अलग – अलग आशीर्वाद क्यों देते हो तो साधु ने कहा कि हम साधु महात्मा फकड़ आदमी है । ऐसे ही बोल दिया तो साहूकार की पत्नी ने कहा कि नहीं जो भी बात है , मुझे बताइये । बहुत कहने पर साधु ने उसे कहा कि तुम्हारें बेटी के चौथा फेरा होता ही विधवा होना लिखा है । तब साहूकार की पत्नी ने कहा कि इसका क्या उपाय है ? तब साधु ने कहा कि जो भी खुलते दरवाजे तुम्हें मिले उसे तुम पहले अपनी बेटी से फेरे दिलवा देना उसके बाद जो वर तुम्हारे खोजा गया है , उससे उसकी शादी करवा देना । साहूकार की पत्नी ने अगले दिन नौकरों से कहा कि जो भी तुम्हें खुलते दरवाजे मिले उसे ले आना । अगले दिन नौकर खुलते दरवाजे जाते है तो उन्हें फदक – फुदक करती सिला आती हुई दिखाई देती है तो नौकर कहते हैं कि नहीं बेचारी साहूकार की बेटी को सिला नीचे तो नहीं मारेंगे । वो ऐसा सोचकर वापस आ जाते हैं और कहते हैं कि उन्हें तो कुछ नहीं मिला । अब अगले दिन भी सिला आता है तो वह फिर वापस आ जाते हैं । इस तरह तीन – चार दिन तक यह क्रम चलता जाता है तो साहूकार की पत्नी कहती है , तुम्हें जो भी पत्थर कंकड़ मिल चाहे जो कुछ भी हो ले आना । बाई ने एकबार फेरा दिलवा कर वापिस उसे खोजे गये व फेरा दिलवाना है तो अगले दिन नौकर फिर जाते हैं तो वही फुदक – फुदक करती सिला आती है तो वे सोचते हैं कि साहूकार की बेटी की यही लिखा हुआ है तो हम क्या करें ? चौथे लोक . . . . . यह कहकर वे सिला को घर ले आते हैं तथा बाई का उस सिला से फेरे दिलवा देते हैं जैसे ही तीन फेरे पूरे होने के बाद चौथा फेरा खाते हैं तो उस सिला के दो टुकड़े हो जाते हैं तब साहूकार की पत्नी नौकरों से कहती है । इस सिला के टुकड़ों को फेंक दो । जैसे ही वह उस सिला को उठाते हैं तो साहूकार की बेटी हठ करके बैठ जाती है कि वह अब दूसरी शादी नहीं करेगी और जिससे उसने फेरे खाये है । वह उसी के साथ जंगल में झोंपड़ी बनाकर रहेगी । उसके मां – बाप उसे बहुत समझाते हैं लेकिन वह नहीं मानती । अन्त में वे हारकर जंगल में झोपड़ी बनाकर उसे रहने देते हैं । रोज उसकी भोजाई दोनों समय खाना पहुंचा देती है । इस तरह कई महीने बीतते गये एक दिन उसे जंगल में कुछ आवाज सुनने को मिलती है । वह बाहर आकर देखती है तो कुछ परियां वहां आयी हुई है तो वह उनके पास जाकर पूछती है कि तुम कौन हों ? और यहां क्या कर रही हो ? तब उन्होंने कहा कि हम इन्द्रलोक की परियां है । इन्द्रलोक में गवर पूजकर मृत्युलोक में पंथीवाड़ी माता को पूजने आये है तो वह पूछती है कि इससे क्या होता है तो परियां कहती हैं कि इससे अन्न , धन , लाज , लक्ष्मी इत्यादि आती मिलती है । तब वह कहती है कि मुझे और तो कुछ नहीं चाहिये लेकिन मेरे पति मुझे मिल जाए तो मैं भी गवर पूज लूं तब परियां उससे कहती है कि तुम्हारे साथ कैसे पूजेगी , तभी उनमें से एक परी बोली कि ऐसा करो कि तुम रोज अपने झोपड़ी में एक बिन्दी लगा लेना जब हम पीवाड़ी पूजने आयेंगे तब तुझे आवाज लगा देंगे । अगले दिन से साहूकार की बेटी ने अपने झोपड़ी में एक टीकी लगाकर पूजा की तभी बाहर से आवाज आई साहूकार की बेटी आ जा पंथीवाड़ी माता री पूजा कर ले । यही क्रम 45 दिनों तक चलता रहा 15वें दिन उन परियों ने उससे कहा कि कल तुम सिर धो लेना व्रत रखना , रोटा बनाना , फोगले का रायता यह कहकर वह वहां से चली गयी । रात को जब उसकी भोजाई रोटी लेकर आयी तो उसने कहा कि भाभीजी कल मेरे लिये रोटा बनाकर लाना , मेरे धीना गवर माता की पूजा और व्रत है ।

तब भोजाई ने कहा कि अब जंगल में बैठी ने रोटी जगह रोटा चाहिये । मैं कल रसोई बनाकर ही नहीं लाऊंगी मुंह बिचकाकर वह वहां से चली जाती है । अगले दिन वह हाथ – पैर मोड़ती है । वह बाहर जाती है तो वह देखती है कि वहां गेर गंभीर खेजड़े का पेड़ अपने आप उग गया है तो वहां से खेजड़े के पत्तों को तोड़कर पीसकर रोटे का आकार देकर उसके ऊपर कंकड़ पत्थर रखकर ढक देती है तभी आवाज आती है कि साहूकार की बेटी बाहर आकर पंथीवाड़ी पूज लो वह अन्दर टीकी लागकर बाहर पूजा करके वापिस अपने झोंपड़े में आ जाती है । वह जब ढक्कर हटाती है तो वह देखती है कि पत्तों का जो रोटा था वह परमल गेहूं का रोटा बन गया । उसके ऊपर फोगले का रायता और कंकड़ पत्थर बूरा – खाण्ड बन गयी तब उसने कहा कि धीना गवर माता ने इतना कुछ दिया है तो मुझे सुहाग भी देगी । तभी बाहर से तीन बार आवाज आती है कि साहूकार की बेटी बाहर दो नदियां बह रही है एक लाज – लोई की दूसरी केसर – कुंकु की । सिला के टुकड़ों को ले जाकर उसने उसे पहले लाज – लोई की नदी और फिर केसर कुंकु में नहलाया । तभी उसने देखा कि वह सिला के दो टुकड़े एक युवक के रूप में खड़ा है तो उसने उससे पूछा कि तुम कौन हो तो उसने कहा कि मैं तुम्हारा पति हूं तो वह उसे अपनी पति स्वीकार नहीं करती लेकिन जब वह उसे पत्थर की निशानी बताती है तो वह उसे स्वीकार कर लेती है । उधर झोपड़ी की जगह महल , नौकर – चाकर , खूब हीरा – मोती , माणक गवर माता की कृपा से आ जाते है । सुबह जब भाभी रोटी लेकर आती है तो झोपड़ी की जगह महल और किसी पर पुरुष के साथ अपनी ननद को देखती है तो दौड़ती – दौड़ती अपनी सास के पास जाती है और कहती है कि आप कहते हो कि मेरी बेटी सती है , लेकिन आपकी बेटी तो किसी अन्य पुरुष के साथ रह रही है तब मां – बाप , भाई – भाभी दौड़ते – दौड़ते आते हैं और कहते हैं कि यह तूने क्या किया ? तूने तो हमारे कूल को दाग लगा दिया तो साहूकार की बेटी ने कहा कि मैंने आपके कूल को दाग नहीं लगाया । मुझे तो यह सब धींगा गवर माता की कृपा से मिला है । वह मां कहती है कि पर पुरुष तो रातों रात ही आ जाता लेकिन यह झोपड़े की जगह महल , नौकर – चाकर यह सब तो नहीं आते । अगर आपको विश्वास नहीं है तो आप अपनी जंवाई के पत्थर की निशानी देख लीजिये । जब वे वह निशानी देखते हैं तो उन्हें विश्वास हो जाता है और वे फिर उन दोनों को खूब गाजे – बाजे से अपने घर ले जाते हैं ।
हे धींगा गवर माता जिस प्रकार साहूकार की बेटी पर तेरी कृपा बनी रही , उसी प्रकार हर इंसान पर तेरी कृपा बनी रहें ।
धींगा गवर माता की जय ।

पंथीवाड़ी माता की कहानी

एक साहूकार थो बिरे कोई भी नियम कोनी थो । बो खावतो – पिवतो और सो जातो । एक दिन साहूकार री पत्नी साहूकार सू बोली थे कुछ तो नियम करो और नहीं तो पंथीवाडी माता रे ही पाणी सींच आया करो और कह दिया करो कि देखीं – देखीं शहरी लोगो देखी ।

साहूकार रोज पाणी सींच आवतो और कह देतो कि देखीं – देखीं शहरी लोगों देखी ।

चार चोर चोरी कर आया और आप – आपरी हिस्सा पाँती कर रहया था बे समय साहूकार पंथीवाडी माता रे पाणी सींच आयो और चोरो ने देख बोल्यों देखीं – देखीं शहरी लोगो देखी । चोर बोल्या पांचवी पाँती थे लेलो । साहुकार चोरों की सुणी कोयनी और दौड़तो – दौड़तो घर आयग्यों साहूकार आपरी बहू ने केयो –
तू केयो कुछ तो नियम करो म्हारे लारे तो बाढ़ आई है । साहूकार री बहू केयो थे घर में बैठो मै बात करू इत्ते में चार चोर भी आयग्या ।साहूकारनी बोली क्या बात है चोर बोल्या मैं चोरी कर सामान लायो हो और साहूकार बोल्यो की ‘देखीं – देखीं शहरी लोगो देखी’ मै बोल्या पाँचवीं पाँती थोरी । साहूकारनी बोली पाँचवी पाँती लेवा कोयनी पूरी लेसां नहीं तो राज में चूगळी कर देस्यू। चोर बोल्या कोई बात कोनी पूरी लेलो । मैं तो फर चोरी कर लेसो। साहूकार केयो इत्ते धन रो क्या करसो । चोर बोल्या मैं कुंवारी कन्या ने परणासो, पंथीवाडी माता रो अजुणो करासो, धन री कमी वाळो ने धन देसो ।
हे पंथीवाडी माता ज्यों साहूकार ने दियो तूं सगळो ने ही दिये ।

गणगौर के गीत

गणगौर उत्सव में गाए जाने वाले गीत

Gangaur ke geet

Dophar me gaye jane wale gangaur ke geet

शेयर करे

विषम स्थितियों में कैसे करे माता की पूजा

शेयर करे

कैसे करें की माता प्रसन्न भी हो

पूरा विश्व कोराना की महामारी से त्रस्त है और भारत भी इस संकट के दौर से गुजर रहा है । चारों और लॉकडाउन है घरों में लोग सिमिट रहे है,बाज़ार जाना सम्भव नहीं या दुकानों माता की पूजन उपलब्ध नहीं ऐसे में सनातनी लोग नवरात्रा में देवी की पूजा कैसे करें यह सबके मन में चल रहा होगा। इसके लिये आप चिंता न करें शास्त्रों में स्पस्ट भी उल्लेख है देश,काल,समय और परिस्थिति के अनुरुप ही हमें हर कार्य करना चाहिये।
आप के घर माता की चुनरी नहीं है तो लाल ब्लाउज पीस या लाल केशरिया वस्त्र ओढ़ा सकते है अगर ये नहीं तो मोली ही काफी है अगर ये भी नहीं हो तो लाल रेशमी केशरिया कोई भी धागा हो तो वो भी चढ़ा सकते है।
प्रशाद मिठाई अभी नहीं मिल सकती और मिले तो भी अभी बाहर से लाना उचित भी नहीं तो क्यों न माता के गुड़ की लापसी , हलवा, खीर, गुलकंद या सिंघाड़े का सीरा खुद घर में बनाकर चढ़ाए तो इससे अच्छा और कुछ नहीं हो सकता अगर इनमें से कोई नहीं है तो मिश्री और मिश्री नही तो गुड़ अथवा चीनी भी चढ़ा सकते है। फल उपलब्ध न हो तो लोंग/इलायची/सुपारी इन तीनों में जो उपलब्ध हो वो चढ़ा दे।

माता के पास पालसिये में ज्वारे बोए जाते है इन परिस्थितियों में पालसिये भी नहीं ला सकें होंगे तो वो भी चिंता न करे भूमि पर या किसी भी धातु के पात्र में मिट्टी डालकर बुआई करलें।
इस प्रकार 9 दिन भोग में दूध, चीनी, घर में बनाकर शक्कर का चूरमा आदि भोग चढ़ा देवे। वैसे भी पहले बाजारों की मिठाइयां नहीं बल्कि घर में बनाई ही मिठाई चढ़ाई जाती थी । फल भी आटे व हल्दी जो घर मे उपलब्ध रहते है उसके बना सकते है ये फल शादी विवाह में भी आज भी यूज किया जाता है ।

कोई चीज जो भी लगे चढ़ानी जरूरी है और आपका मन है या जहाँ भी आप है वहाँ ऊपर बताया वो भी सम्भव नहीं है तो आप सबसे पहले स्वयं गंगा का स्मरण कर अपने आपको पवित्र कर और माता की पूजा मानसिक रूप से करें आवाह्न स्नान भोग सब मानसिक रूप से निवेदन करें, वैसे भी पूजन में सामग्री की बजाय भाव महत्वपूर्ण है।

इस संकट की घड़ी में भी सकारात्मक सोच रखे कि माता ने आपको कुछ दिन घर में रहकर ध्यान स्मरण जाप व प्रार्थना करने का अवसर दिया है। आप नियमित माता का दुर्गाशप्तष्टि का पाठ करें, किताब उपलब्ध न हो तो इंटरनेट पर है या फिर सुने या माता का नवाहण मन्त्र की 11, 21, 108 जितनी सम्भव हो करें और पूजा माला के अंत में शांति मन्त्र अथवा ‘नमः शिवाय’ की एक माला जरूर करें और अपने व देश की रक्षा करने के लिये प्राथर्ना करें।
जिनको पाठ आता है वो रोग भय शांत के लिये कल्याण के लिये ‘रोगा न शेषा…’ मन्त्र सम्पुट लगाए अथवा दुर्गाशप्ती के पीछे अथवा नेंट में ‘सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके, शरण्येत्र्यंबके गौरी नारायणी नमस्तुते व ‘रोगा न…’ की एक माला प्रतिदिन जाप करें। इससे आत्मबल बढ़ेगा, सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा।

अपने अपने घर में रहकर प्रशासन के नियम की पालना के साथ उक्त विधि अपनाएँ पूजन आदि सामग्री के लिये बाहर निकलने की कोई आवश्यकता नही है, देवी माँ की कृपा जरूर होगी । अगर पहले दिन पूजा नहीं कर पाए तो भी कोई नहीं ये 9 दिन में कभी भी करलें । विश्व कल्याण और इस महामारी से मुक्ति के लिए माता से प्राथना जरूर करें..

– 25 मार्च घट स्थापना मुहूर्त

सुबह – 6:27 से 9:30 बजे तक व 11 से 12:30 तक

।।जय माता दी ।।

प्रहलाद ओझा ‘भैरु’

शैलपुत्री माता की कथा वीडियो

शेयर करे

देखें वे गीत जो गणगौर में दोपहर के समय गाए जाते है

शेयर करे

गणगौर में दोपहर में गाए जाने वाले गीत –

नौरंगी गवर

म्हारी चाँद गवरजा , भलो ए नादान गवरजा रत्नों रा खम्भा दीखे दूर सू , बम्बई हालो , लाखों पर लेखण पूरब देश में , कलकते हालो , गवरयो री मोज्यों बीकानेर में गढ़न कोटां सूं उतरी सरे , हाथ कमल केरो फूल
शीश नारेळां सारियो सरे , बीणी बासक नाग रे |
| बम्बई . . . बम्बइ . . . . . (1)

चोतीणे रा चार चाकलिया , बड़ पीपल बड़ है भारी
बड़ पीपल बड़ है भारी , ईशरजी ने गवरा हद प्यारी
भंवारे भंवरो फिरे सरे , लिलवट ऑगळ चार आखड़ल्यों रतने जड्यो सरे , नाक सुआ केरी चोंच रे । ।
बम्बई . . . . . (2)

उड़ो हंस पर जाओ गिग्नार्या खबरया लाओ मेरे ईशर की
खबरयों लाओ म्हारे ईशर की , म्हारे गोठ्यो घुळ रही रेशम की
होठ परेवा रेखियो सरे , जीभ कमल केरो फूल मिसरायां चूने जड़ी सरे , दांत दाड़म केरो बीज रे । ।
बम्बई . . . . . (3) | |

चांदमल ढढे का लड़का , सूरजमल पंछी का लड़का
इये नयी हवेली में पोढ़े गवरजा , खसखस का पंखा ।
किण थोने घडी रे सिलावटेसरे , किण थाने लाल लोहार
केणे जी री डीकरी सरे , केणेजी रे घर नार रे । ।
बम्बई . . . (4)

गवरादे गोरी अलख सागर सूं भरला डोलची पातळिया ईशर पाणीड़े ने जांवती ने आवे लाजजी ।
जन्म दियो म्हारी मावड़ी सरे , रूप दियो किरतार
हेमाचली री डीकरी सरे , पातळिये ईशर घर नार रे । ।

बम्बई . . . . . (5)

नींबूतळा में दोय – दोय गवरियो अड़बी बाजा बाजसी
अड़बी बाजा बाजसी रे , सिंह ऊभा गाजसी सिंह उभा गाजसी , पंचायत ऊभी देखसी । महाराजा देसी दायजो सरे , सौ घोड़ा असवार घेर घुमाळो घाघरो सरे , ओढण दखणी रो चीर रे । ।
बम्बई . . . . . (6) । ।

चार चवन्नी चांदी की , जै बोलो महात्मा गांधी की
लाल रूमाल सिपाही का , घर घर में राज लुगाई का ।
कड़ाकंद केशर री भावे . रायतो दाख्यों रो भावे ईशर छोड़ चल्यो परदेश , गवरजा ने नींद नहीं आवे
गवरजा क्यों झुरे गैली रे . गवरजा क्यों झूरे गैली
थारो ईशर गयो परदेश , कमावण रुपियों री थैली – थैली । ।
बम्बई . . . . . (7)

पूजन दो गणगौर-

– खेलण दो गणगौर गढ़ा रा मारू , पूजण दो गणगौर।
होजी म्हाने गणगौरयों रो घणो चाव , गढ़ा रे मारू खेलन दो गणगौर।
होजी म्हारी गवरल रा दिन चार , गढ़ा रे मारु खेलन दो गणगौर ।
होजी म्हारी सहेल्या जोवे है बाट , गढ़ा रे मारू खेलन दो गणगौर।।

-भल खेलो गणगौर सुन्दरगौरी , भल पूजो गणगौर।
होजी थारी सहेल्यां रो सरब सुहाग
सुन्दर गोरी भल खेलो गणगोर ,
खेलण दो… , पूजण दो…।।

– होजी म्हारी सहेल्यां मांगे है गोठ , गढ़ा रे मारु खेलण दो गणगौर।
भल खेलो गणगोर सुंदरी गोरी , भल खेलो गणगौर।
होजी थारी सहेल्यां ने देसा , म्हे गोठ मुन्दर गोरी।
भल पूजो गणगौर , खेलण दो गणगौर गढ़ा रे मारू , पूजण दो..।।

– माथे रे मैंमद घडाव गढ़ा रे मारू , माथे रे मेंमद घडाय ।
होजी म्हारे रखड़ी री मौज लगाव , गढ़ा रे मारु खेलण दो गणगौर ।।

– हिवडे रे हार घडाय गढ़ा रे मारू , हिवडे रे हार घडाय ।
होजी म्हारे तनसुख रतन जड़ाय, गढ़ा रे मारु खेलण दो गणगौर।।

– बॉयों रे चुड़लो चिराव गढ़ा रे मारु, बॉयों रे चुड़लो चिराव।
होजी म्हारी गजरा री मौज लगाव , गढ़ा रे मारू खेलण दो गणगौर।।

– अंग में चून्दड़ लाय गढ़ा रे मारू , जैपूर री चून्दड़ लाया।
होजी म्हारे तारो री मौज लगाय , पल्ला में सूरज छपाय गढ़ा रे मारू खेलण दो गणगौर।।

– पगल्या में पायल घड़ाय गढ़ा रे मारू , पगयों रे पायल घड़ाय।
होजी म्हारी बिंछियाँ री मौज लगाय , गढ़ा रे मारू खेलण दो गणगौर।।

– होजी थोने देवे लाड़णपूत , सुन्दर गोरी भल पूजा गणगौर।
होजी म्हारी सहेल्यां जोवे है बाट , गढ़ा रे मारू खेलण दो गणगौर।।

Gangaur ke geet

Dophar me gaye jane wale gangaur ke geet

चूंदड़ी-

मिजाजी ढोला जैपुर जायजो जी , बठे सूं लायजो जाळी री चूंदड़ी । ।

मिजाजण गोरी कुणजी लाया ओ , केणेजी ओढी जाळी री चूंदड़ी । ।

( ईशरजी ) ढोला जेठजी लाया ओ , जेठाणीजी ओढी रब्बड़ री चूंदड़ी । ।

( गवरादे ) गोरी भांत बतावो ओ , कैसी तो होवे जाळी री चूंदड़ी । ।

मिजाजी ढोला हरा – हरा पल्ला ओ , कसुमल होवे रेशम री चूंदड़ी । ।

मिजाजण गोरी ओढ बतायो ओ , कैसी तो सोवे तारां री चूंदड़ी । ।

मिजाजी ढोला किस विध ओढूँ ओ , अठे तो म्ळारा सुसरोजी देखे । ।

मिजाजण गोरी पीहर पधारो आ , बठे तो ओढ़ो जाळी री चूंदड़ी । ।

मिजाजी ढोला किस विध ओढूँ ओ , बठे तो म्हारा दादीजी बैठा । ।

मिजाजण गोरी महल पधारो ओ , अबे तो ओढ़ो जाली री चूंदड़ी । ।

मिजाजी ढोला महल अंधेरो ओ , कियां ओ ओढूँ जाळी री चूंदड़ी । ।

मिजाजी ढोला गर्मी सतावे ओ , कैसे तो ओढूँ जाळी री चूंदड़ी । ।

मिजाजण गोरी पंखा लगाय , ओ , अबे तो ओढो जाळी री चूंदड़ी । ।

मिजाजण ढोला पैला कैयो थो ओ , नजर म्हाने थांरी जी लागी । ।

मिजाजी ढोला सांभर जायजो जी , आंवता तो लायजो राई री पूडी । ।

मिजाजी ढोला मिर्जापूर जायजो जी , बठे सूं लायजो मिर्ची री पूड़ी ।

मिजाजी ढोला निजर उतारो ओ , जदे तो ओढूँ जाळी री चूंदड़ी । ।

मिजाजण गोरी चंदा सी चमके ओ , तारों सी चमके जाळी री चूंदड़ी । ।
( मिजाजी – जंवाई , मिजाजण – बेटी का नाम गाये ) । नेग मंग )

गणगौर के सभी गीतों के लिए देखें वेबसाइट और अपडेट के लिए जुड़े रमक झमक के फेसबुक पेज से ..

गणगौर को क्यों दौड़ाकर ले जाया जाता है जाने नीचे दिए गए वीडियो में –

शेयर करे
Facebook Page
Facebook By Weblizar Powered By Weblizar

Copyright © 2015. All Rights Reserved.