Home

शेयर करे

३१ जनवरी को होगी “महादेव-हेमाद्री” की शादी

बीकानेर । पुष्करणा समाज का सामूहिक शादियों का आयोजन "सावा" इस बार ३१ जनवरी २०१३ को होगा । पंडितो व ज्योतिषियों ने मिलकर सावा मुहूर्त महादेव व हेमान्द्री के नाम से तय किया है ।  यानि इस दिन हर बीन महादेव व हर बीनणी हेमान्द्री होगी एक ही दिन एक ही समय में ये शादियाँ होगी प्रारंभिक अनुमान है के  कि इसबार छह सौ घरों में शादियाँ  यानि तीन सौ जोड़े परिणय सूत्र में बंधेगें । इसमें  सावा के दिन तक ...
Read More

पुष्करणा ब्राह्मणों के चौदह गौत्र और चौरासी जातियां

1-उगथ्य गोत्री श्रेगवेदी, आवश्लायनसूत्री, बाहेती, मेड़तवाल, कॅपलिया, बाछडत्र, पूंछतोड़ा, पाण्डेया, 2- भारद्वाज गोत्री, यजुर्वेदी काल्यायनसूत्री, टंकशाली (व्यास) काकरेचा, माथुर कपटा (बोहरा) चूल्लड़, आचार्य। 3- शाण्डिल्य गोत्री यजुर्वेदी, कात्यायनसूत्री बोधा (पुरोहित) मुच्चन (मज्जा) हेड़ाऊ, कादा, किरता, नवला। 4- गौतम गौत्री, जयुर्वेदी कात्यायनसूत्री केवलिया, तिवाड़ी (जोशी) माधू, गोदा, गोदाना, गौत्तगा। 5- उपमन्यु गोत्री, जयर्वेदी, कात्यायनसूत्री ठक्कुर (उपाधिया) बद्दल, दोढ़, मातमा, बज्झड़। 6- कपिल गोत्री, जयर्वेदी कात्यायनसूत्री कापिस्थलिया (छंगाणी) कोलाणी, झड़ मोला, गण्ढलिया (जोशी) 36 ढाकी। 7-गविष्ठिर गोत्री समावेदी कात्यायनसूत्री दगड़ा, पैढा, रामा, ...
Read More

विवाह हेतु उपयोगी सामग्री की सूची

लग्न का सामान : कुंकु चावल, सुपारी 5 नग, मोली 1 गिंडा, गुड़ 5 डली, नारियल 2 नग, यज्ञोपवीत 2 जोड़ा, लौंग, इलायची, काजल डब्बी 1, मिश्री 1, आटे-हल्दी फल 7 नग। हाथधान का सामान : कुंकु चावल, सुपारी 5, मोली 1 गिंडा, गुड़ 5, गेडियो, पंजियो, बटवो, नारियल 2 नग, यज्ञोपवित 2 जोड़ा, सफेद वस्त्र, दाल पीसी हुई, कुमार लड्डू, छाजला, 2 बेलन, सप्तधान, आटा, हल्दी, तेल (पीठी का सामान), मेट, छाछ, सकोरा 7, मूंग, गुड़, धाना, लाख का ...
Read More

पुष्करणा नाम कैसे पड़ा

पुरात्व के आधार पुष्करणा समाज भारतवर्ष के अत्यंत प्राचीन समाजों में से एक है। एपीग्राकियां इंडिया और एक्सकवेसन पट राजघाट तथा विभिन्न शोध ग्रंथों के आधार पर इस समाज की प्राचीनता और मानव समाज को इसकी देन के प्रमाण उपलब्ध हैं पर कब से मंच गौड़ों की गुर्जर शाखा से अलग होकर देश देशान्तर में इन्होंने अपना अस्तित्व विस्तार किया यह अभी तक अनुसंन्धेय ही है। पौराणिक आख्यानों के आधार पर भृगु ऋषि के पुत्र गुर्जर के तृतीय पुत्र ऋचीक ...
Read More

पुष्करणा ‘सावा’ ओलम्पिक परिचय

 सादगी,सरलता,एकता व समरूपता के लिए पूरे देश में प्रसिद्ध पुष्करणा समाज का सामुहिक शादियों का ओलम्पिक ‘सावा‘ एक परिचय - सावा का अर्थ सह़ विवाह, सामुहिक विवाह व सहयोग से है । बजुर्गो की माने तो सामुहिक विवाह परंपरा की शुरूआत जैसलमेर जिले से पुष्करणा समाज में 1300 वर्ष पहले हुई और बीकानेर में लगभग 150 वर्ष पहले शुरूआत हुई। एक ही दिन एक ही समय में, एक ही लगन में और एक ही गणवेष में शादी करने की इस ...
Read More

 

 

 

शेयर करे