आधुनिक ज्योतिष के उपायों को छोड़ किसी भी काम के लिए ये करें

शेयर करे

पिता, नाना व बहन के सम्मान से खराब ग्रह चाल भी हो जाएगी ठीक

आधुनिक युग और पाश्चात्य संस्कृति के प्रभाव के चलते लोगों को शार्ट कट की चाहत बढ़ी है। जीवन की भागम भाग में रिश्ते पीछे छूट रहे है और लोग ज्योतिषियों तांत्रिकों से शॉर्टकट उपाय पूछ रहे है। नोकरी, पद, प्रतिष्ठा, शादी व संतान पाने के लिए लोग क्या क्या नहीं कर रहे है।

डिप्रेशन से निकलने का रास्ता भी डॉक्टर से लेकर ज्योतिषियों तक को पूछा जा रहा है। कौनसा ग्रह खराब है किस ग्रह की दशा चल रही है, उसका क्या उपाय है,क्या पाठ पूजा है, सब करने को तैयार है और कर भी रहे है फिर भी समस्या का समाधान नहीं हो रहा। घर में तनाव अलग से बढ़ रहा है।
ये सब क्यों हो रहा है? इसका मुख्य कारण क्या है? समाधान क्या है? ये सब आप जानना चाहते है समाधान चाहते है तो ईमानदारी से रमक झमक एस्ट्रो टिप्स अपनाइये और प्रभाव खुद महसूस कीजिये।

पिता के चरण स्पर्श करने से सूर्य की दशा खराब हो तो राहत मिलती है। अच्छी हो तो और अच्छी हो जाती है। सरकारी काम, सम्मान, ऊर्जा, पेट, सिर का कारक है। ज्योतिषीय दृष्टि से सब उपाय करके भी अगर आप पिता का सम्मान नहीं करते उनकी आज्ञा का पालन नहीं करते, आपकी किसी वजह से उनको कष्ट होता है, तो मानकर चलिए सब उपाय के बावजूद सूर्य सम्बन्धी पीड़ा ठीक नहीं होगी। इसलिये सुबह जल्दी उठकर भगवान सूर्य को जल दे, पिता का आशीर्वाद ले, हर रोज उनका मन जितने का प्रयास करें। अगर पिता आपसे खुश है, आप आशीर्वाद लेते है, काम में हाथ बंटाते है, पिता का नाम व सम्मान कैसे बढ़े ये प्रयास करते है तो सूर्य ग्रह कितना ही आपके लिये क्रूर हो, दशा खराब क्यों न हो, वो सब ठीक होकर आपको लाभ जरूर होगा ।

चंद्रमा खराब हो, उसके लिए माता के चरण स्पर्श करके आप अपने मन को बहुत अच्छा कर सकते हैं।

मंगल के लिए भाई से मित्रवत संबंध रखे।

बुध ग्रह के लिए बहन बुआ मौसी का सम्मान करे।

गुरु यानि बृहस्पति के लिए स्कूल शिक्षक, कुलगुरू, ब्राह्मण आध्यात्मिक गुरु से आशिर्वाद प्राप्त करते रहे।

शुक्र के लिए पत्नी को सदेव प्रसन्न रखने का प्रयास करें उत्सव त्योंहार पटरेडीमेड कपड़े दिलाने का प्रयास करें।
शनि के लिए सेवक, नोकरो से प्रेम का व्यवहार रखे तीज त्योंहार को उनको मिठाई खिलाए व गिफ्ट देवे।

राहु के लिए दादाजी और केतु के लिए नानाजी का सम्मान करना उनको अनकंडीशनल प्रेम करना उनकी आज्ञाओं का पालन करना उनको सुनना उनके साथ बैठना व उनके पैर दबाने से लाभ मिलता है। इस प्रकार रिश्तों को अच्छे ढंग से निभाने से नवग्रह शांत होते हैं और अनुकूल होते हैं बिगड़े हुए काम बनने शुरू हो जाते है।

– प्रहलाद ओझा’भैरु’
लेखक:-‘शीघ्र फलदायक भैरव साधना व गृहस्थी सुख के सुगम उपाय’

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook Page
Facebook By Weblizar Powered By Weblizar

Copyright © 2015. All Rights Reserved.