विवाह के विस्तृत गीत

शेयर करे
विवाह के  पौराणिक गीत
गणेशजी-
म्हारा प्यारा रे गजानंद आयजो-2
थोरे संग में रिद्धि-सिद्धि लाइजो जी ।।म्हारा।।
गजानंद थे आयजो,रिद्धि-सिद्धि लाइजो,
थोरे संग में अन्न-धन्न लाइजो जी ।।म्हारा ।।
गजानन्द सोनो थे भल लाइजो,
बनडी रे हार घडायजो जी ।।म्हारा।।
विरध विनायक-
चालों विनायक आपों जोशीजी रे हालों
चोखा सा लगन लिखावों ए, म्हारा विरध विनायक ।।
सूंड सुंडालो बाबो,धुंध धुंधलो ।
ओछी पींडि रो कोमण गारो ए,म्हारा विरध विनायक ।।
चालों विनायक आपों सोनीजी रे हालों ।
चोखा सा गहना घडावों ए,
म्हारा विरध विनायक ।।
चालो विनायक आपों तम्बोलीजी रे हालों
बनडी रा होठ रचावों ए, म्हारा विरध विनायक।।
(ऐसे ही कंदोई-मिठाई,झवरजी- मोती हार आदि)
गणेशजी-
ध्यावो रे गणपत ने रे कारज सिद्ध करे।
हरे हो बनजी ध्योवो रे देवी ने स्याय करे ।
हरे सोनो लंका देश रो बनड़ी रे हार घड़ाय
अरे मोती समन्दा पार रा बनड़ी रे हार पोवाय ।
रूपो उज्जवल देश रो बनड़ी रे पायल घड़ाय
बनाजी …….ध्यावो रे
गणेश जी
गणपत देवा करुं थोड़ी सेवा, सेवा में सब रंग लाय । अब मत देर करो ।।
बन्ना सोनीजी रे जाना, गहना घड़ाना, बनडी रै हार घड़ाय । अब मत देर करो ।।
(ऐसे ही कंदोई-लाडू, तंबोली-पान बिड़ला)
सुहाग-
सुहाग मांगण चाली आपरे दादी जी रे पास ।
दादो जी दोनी सुहाग,भुवाजी दोनी सुहाग ।।
बालीं भोली रो सुहाग,अकन कुँवारी रो सुहाग
बाई–रो सुहाग,काजल टिकी में घुल रहियो।
छल्ला बींटी में घुल रहियो,मेंण मजीठ में घुल रहियो ।
ए माँ मैं क्या जानूं कामण ऐसा घुल रहियो ।……….
बन्नो-
बन्नो म्हरो श्याम सुंदर अवतार,किन्ने री डोर हिलावै ए ।।
बन्नो म्हरो रामचन्द्र अवतार,सीता संग ब्यावं रचावे ए ।
बन्नों म्हारो होली रो खेतार, होली रो चंग बजावै ए ।।
बन्नों म्हरो मोती लावै ए, बनड़ी रे हार पोवा ए।
बन्नों म्हरो चुड़लो लावै ए, बनड़ी रे बॉय पैरावे ए।।
बन्नों म्हारो रूपो लावे ए, बनड़ी रे पायल घड़ावे ए ।।
बन्नों म्हारा बनड़ी लावे ए, माजीसा रा पांव चपावे ए ।।
बन्नी-
ओट्टे जाईज्यो कोटे जाईज्यो,जायज्यो समन्दों पार
समन्दों रा मोती लाइजो लायज्यो चार ।
सरदार बन्ना,उमराव बना
मुखड़े रो मांडण गोरो रे नथ सोवे राज ।।
चलो ओ नणद बाई,नथ जोवण चल,
नथनी जोवाई थोनें लाडू देसों चार ।।
सर………….।।
घोड़ी-
घोड़ी नाचे राज कुदे ठमके पांव धरे ।।
बन्नो भर-भर मुठडी आ हीरो री अंगूठी ओ राज
रोक रुपैया निच्छरावल करै । घोड़ी नाचे राज कूदे ठमके ……।।
राईवर थोड़ा हो बाबाजी,राईवर थोरा हो नानाजी ।
घोड़ी रा जतन करे,तेज न नाचे राज ।।
राईवर थोरा हो…….
(इसतरह नानोजी,दादोजी,नानीजी…)
शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook Page
Facebook By Weblizar Powered By Weblizar

Copyright © 2015. All Rights Reserved.