पंचमम स्कन्दमातेति- माता की पूजा से दूर होती है शारीरिक व्याधा

शेयर करे

Maa Skandmata ka roop

 

 

 

 

स्कंदमाता देवी दुर्गा का पांचवां रूप है । स्कंदमाता स्कंद कुमार (कार्तिकेय) की माता है । इस प्रकार स्कंदमाता का नाम दिया गया है । इस रूप में फोटो में कार्तिकेय को माता कि गोद में बैठे देखा जा सकता है । माता कमल के फूल पर बैठी एक देवी का सौंदर्यीकरण छवि वहन करती है । यही कारण है कि वह भी पदामसनी के रूप में जानी जाती है ।

देवी स्कंदमाता सौर प्रणाली के देवी है । स्कंदमाता के रूप में देवी की पूजा करके भक्त अपनी सारी इच्छाओं को पूरा करता है और यह बहुत ही नश्वर दुनिया में भी परम आनन्द स्वाद, वातावरण में एक अलौकिक आभा देवी और एक सच्चे दिल से जो पूजा करता है उसे सभी परेशानियों और कष्टों से मुक्ति मिलती है ।

भगवान कार्तिकेय की माता नवरात्र के पांचवें दिन पूजा की जाती है । भगवान कार्तिकेय भी विभिन्न शास्त्रों में स्कंद कुमार या संत कुमार के रूप में जाने जाते है । देवी अपने बेटे स्कंद कुमार पर बरस उसकी माँ का आशीर्वाद देखा जा सकता है । देवी के चार हाथ में हथियार और कमल है । वह दोनों हाथों में कमल धारण और भगवान कार्तिकेय उसकी गोद में बैठी समर्थन करने के लिए दूसरे हाथ का उपयोग करती है । चौथे हाथ को भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए उठाया है । इस दिन माता कि पूजा करने से भक्तों कि सभी शारीरिक व्याधा और कष्ट दूर होते है ।

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook Page
Facebook By Weblizar Powered By Weblizar

Copyright © 2015. All Rights Reserved.