कम्प्युटर और मोबाइल पर लाईव दिखेंगी बारातें, पुष्करणा युवा शक्ति मंच रमक झमक ने की अनूठी पहल

शेयर करे

पुष्करणा ब्राह्मण समाज के ऑलपिक सावे के दौरान ३१ जनवरी को बारह गुवाड से होकर गुजरने वाली बारातों को कम्प्युटर और एन्ड्रोयड मोबाईल पर ऑनलाइन देखा जा सकेगा ।
यह सब संभव हो पायेगा पुष्करणा युवा शक्ति मंच द्वारा तैयार की गई वेबसाइट रमक झमक डॉट कोम के माध्यम से । वेबसाईट के संचालक राधेकृष्ण ओझा ने बताया की इस वेबसाइट के  माध्यम से विवाह के विविध पौराणिक महत्वों, उनकी आवश्यकताओं और आज के दौर में उनकी  प्रासंगिकता  के बारे में बताया गया हैं ।  राधेकृष्ण ओझा ने बताया की इस वेबसाइट के माध्यम से इतिहास में पहली बार पूरी दुनिया के किसी भी कोने में बैठे लोग मंच कार्यालय के आगे से गुजरने वाली बारातों और मंच द्वारा की जाने वाली अगवानी व मनुहार को देख सकेंगे ।
इस वेबसाइट का लोकार्पण आज राजस्थान वित आयोग के अध्यक्ष डॉ बी डी कल्ला  ने किया ।  इस अवसर पर उन्होने कहा की वेबसाइट में छिंकी मे बोले जाने वाले मंत्र की महत्ता तथा उसके संदर्भ के बारें में वैज्ञानिक तथ्यों के साथ जानकारी उपलब्ध करवायी गई हैं ।  इसके अलावा इस ऑलम्पिक सावे के इतिहास, इसकी व्यापकता, सावे के दौरान विभिन्न कार्यक्रमों व मुहूर्त के अलावा जो विवाह सामग्री व रीति रिवाज की सूची भी उपलब्ध करवायी गई हैं वह वास्तव मे अनूठी और दुर्लभ हैं और इसका श्रेय मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रहलाद ओझा भैँरू के साथ-साथ वेबसाइट के  संचालक राधे को जाता हैं ।  इसी के साथ बी डी कल्ला ने कहा की सावा पर १ रूपये नारियल लेकर चट मंगनी पट ब्याह की परंपरा का निर्वहन हर आदमी को करना चाहिए ।  उन्होने कहा कि मेरी शादी भी पुष्करणा सावा मे हुई थी, आज के युवाओं को भी इससे प्रेरणा लेनी चाहिए ।  उन्होने खोला परंपरा  के  बारे मे कहा कि दो ननिहाल पक्ष व दो ददिहाल पक्ष के लोग ही होने चाहिए और पेचा ओढना भी सीमित कर देना चाहिए और बढती हुई कुछ कुरीतियों को कम किया जाना चाहिए ।  इससे पूर्व कल्ला का स्वागत पंडित छोटूलाल ओझा, मुकेश छंगानी, आशीष ओझा, भागीरथ, मोहन  ने तिलक करके के किया ।  वेबसाइट का लोकार्पण करते समय उपस्थित सुनील बोड़ा, राजकुमार व्यास, हरिकिशन रंगा, भैरुरतन छंगानी ने भी रमक झमक कि सराहना की ।

ramakjhamak.com website ka lokarpan karte hue dr b d kalla
शेयर करे

Related posts

Leave a Comment