Home

नई अपडेट

  • देखिये जूनागढ़ के अंदर से कैसे निकलती है सजी धजी गणगौर माता
    देखिये जूनागढ़ के अंदर से कैसे निकलती है सजी धजी गणगौर माता
    देखिये जूनागढ़ के अंदर से कैसे निकलती है सजी धजी गणगौर माता
  • आज की भादानियों की गवर को बचाते बचाते कटी थी 3 लोगों की गर्दन
    आज की भादानियों की गवर को बचाते बचाते कटी थी 3 लोगों की गर्दन
    आज की भादानियों की गवर को बचाते बचाते कटी थी 3 लोगों की गर्दन जुझार हुए थे लोग जानिये गणगौर को लेकर क्यों दौड़ा जाता है
  • सबसे बड़ी हिन्दू नववर्ष धर्मयात्रा बीकानेर  देखिये पूरी धर्मयात्रा का वीडियो
    सबसे बड़ी हिन्दू नववर्ष धर्मयात्रा बीकानेर देखिये पूरी धर्मयात्रा का वीडियो
    सबसे बड़ी हिन्दू नववर्ष धर्मयात्रा बीकानेर
  • सड़क किनारे कोई असहाय लाचार दिखे तो इनसे संपर्क करें, ये संस्था करेगी इनकी मदद
    सड़क किनारे कोई असहाय लाचार दिखे तो इनसे संपर्क करें, ये संस्था करेगी इनकी मदद
    सड़क किनारे कोई असहाय लाचार दिखे तो इनसे संपर्क करें, ये संस्था करेगी इनकी मदद
  • घुड़ला और दातनिया देना क्या है, कटे हुए सर का प्रतीक क्यों है
    घुड़ला और दातनिया देना क्या है, कटे हुए सर का प्रतीक क्यों है
    घुड़ला और दातनिया देना क्या है, कटे हुए सर का प्रतीक क्यों है
  • कैंसर हॉस्पिटल बीकानेर के पास मरीजों के लिए निशुल्क है रहने खाने की सुविधा
    कैंसर हॉस्पिटल बीकानेर के पास मरीजों के लिए निशुल्क है रहने खाने की सुविधा
    कैंसर हॉस्पिटल बीकानेर के पास मरीजों के लिए निशुल्क है रहने खाने की सुविधा
  • दुर्घटना में घायल लोगो की मदद और ब्लड की आवयश्कता को पूरा करने तुरंत पहुँचती है इनकी टीम
    दुर्घटना में घायल लोगो की मदद और ब्लड की आवयश्कता को पूरा करने तुरंत पहुँचती है इनकी टीम
    दुर्घटना में घायल लोगो की मदद और ब्लड की आवयश्कता को पूरा करने तुरंत पहुँचती है इनकी टीम
  • 20 वर्षों से 5 रुपए में खाना खिला रहा है ये ट्रस्ट
    20 वर्षों से 5 रुपए में खाना खिला रहा है ये ट्रस्ट
    20 वर्षों से 5 रुपए में खाना खिला रहा है ये ट्रस्ट

वीडियो

Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
Play
previous arrow
next arrow
previous arrownext arrow
Slider

 

बेंत (डंडा) मार मेला, बेंत पड़ी तो ब्याव पक्का

भारत परम्पराओं व मान्यताओं को मानने वाला देश है । कई तरह की मान्यताएं यहाँ प्रचलित हैं। यूं कहे कि दुनिया में सबसे ज्यादा मान्यताएं हमारे देश में ही हैं तो ये गलत नहीं होगा। आज हम आपको राजस्थान के मारवाड़ प्रांत खासकर सूर्य नगरी जोधपुर में मनाएं जाने वाले एक खास मेले के बारे में बताने जा रहे हैं। जोधपुर अपनी मान्यताओं, परम्पराओं व सास्कृतिक विरासत के लिये प्रशिद्ध है । मेले मगरियो का शहर जोधपुर में एक ऐसा ...
Read More

अटके और बिगड़े काम बनाए हनुमान जी को इस तरह मनाए

हनुमानजी को क्या चढ़ाए जिससे रुके काम बने। अगर आपकी कुंडली मे मंगल या शनि अशुभ फल देने वाले है या उनकी दशा चल रही है जो अच्छी नहीं है,मंगल के कारण या भाइयो से अनबन है,कर्ज अधिक हो गया है या मंगल या शनि से मांगलिक दोष कुंडली मे बताया गया है,शनि या मंगल के कारण काम मे रुकावट आ रही है,आप मांगलिक है और विवाह में बाधा आ रही है या विवाह बाद भी मांगलिक की वजह से ...
Read More

हनुमान जी के चरित्र से सीखे सफल भविष्य और हर समस्या का समाधान

हनुमानजी से सीखे सफल कैरियर के गुण (हनुमान जयन्ति विशेष) (रमक झमक) हनुमान जी का किरदार लोगों को बहुत कुछ सीखाता है, हर रूप में लोगों के लिए प्रेरणादायक है। हनुमान जी के बारे में तुलसीदास लिखते हैं, ‘संकट कटे मिटे सब पीरा,जो सुमिरै हनुमत बल बीरा’। यानी हनुमान जी में हर तरह के कष्ट (समस्या)को दूर करने की क्षमता है। आज हम आपको बता रहे हैं हनुमान जी के कुछ खास गुण, इन्हें अपनाकर अपनी परेशानियां दूर कर सकते ...
Read More

बारहमास गणगौर व्रत की सम्पूर्ण विधि व इसके फल

बारहमास गणगौर व्रत व सम्पूर्ण विधि, क्या फल मिलता है इसको करने से जानिए बारहमासी गणगौर के संबंध में :- यह व्रत चैत्र सुदी रामनवमी के दिन शुरू होता है। यह सुहागन औरतें ही करती है। अखंड सुहाग,मंगल कामना,वंश वृद्धि, सद्बुद्धि व मोक्ष के लिए व्रत किया जाता है। एक कहानी के अनुसार इस व्रत को सर्वप्रथम राजा युधिष्ठिर व द्रोपदी ने भगवान कृष्ण से आज्ञा प्राप्त करके किया। जिससे मोक्ष प्राप्त हुआ। रामनवमी से एकादशी तक यह किया जाता ...
Read More

शादी व सन्तान के लिये करें यहां बारहमासी गणगौर के दर्शन

बारहमासा गणगौर चमत्कारिक शादी व सन्तान के लिये करें दर्शन -------------------- गणगौर अनेक रूपों मे प्राचीन काल से ही पुजन की जाती रही है कुआँरी गणगौर,धींगा गणगौर, बारहमासा गणगौर । बारह मासा गणगौर चैत्र शुक्ल एकादशी व द्वादशी को दोपहर निकलती है और गढ़ पहुँचती है जहाँ भव्य मेला भरता है और सभी गणगौर इकत्रित होती है खोल भरी जाती है और महिलाए अपने साड़ी या ओढ़ना के पल्लू को गीला कर गवरजा को पानी पिलाती है। बारहमासा गणगौर का ...
Read More
Loading...

 

 

 

Facebook Page
Facebook By Weblizar Powered By Weblizar

Copyright © 2015. All Rights Reserved.