Home

शेयर करे

विवाह सम्बन्धी परेशानी आ रही हो तो ये करें उपाय

क्या आप अपनी बिटिया के विवाह के लिए अच्छा वर ढूंढ रहे है ? अबतक कन्या के लिए कोई अच्छा रिश्ता नहीं आ रहा ? रिश्ता तय नही हो पा रहा ? कन्या के विवाह संबंधी कई अड़चने परेशानियां पैदा हो रही है ? रिश्ते कई आते है किन्तु तय नहीं हो पाता ? रिश्ता तय होते होते बीच में ही कोई नई समस्या आ जाती है या लड़की की उम्र बड़ी हो चुकी है इसलिए वर उसके अनुसार नही ...
Read More

नवरात्र व नान श्राद्ध कल जानिए माँ शैलपुत्री की कथा

कल से शारदीय नवरात्र प्रारम्भ होने जा रहे है। घट स्थापना के साथ ही पूरे 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक पूरे 9 दिन माता के नवरात्र त्योहार को मनाया जाएगा। अधिकमास के चलते इस बार नान श्राद्ध भी एक माह के बाद कल मनाया जाएगा। शारदीय नवरात्रि की तिथियां 17 अक्टूबर 2020 शनिवार- प्रतिपदा घटस्थापना, 18 अक्टूबर रविवार- द्वितीया माँ ब्रह्मचारिणी पूजा, 19 अक्टूबर सोमवार- तृतीय माँ चंद्रघंटा पूजा, 20 अक्टूबर मंगलवार- चतुर्थी माँ कुष्मांडा पूजा, 21 अक्टूबर बुधवार- ...
Read More

पुष्करणा शादी ओलम्पिक स्थगन का स्वागत

पुष्करणा शादी ओलम्पिक स्थगन का स्वागत बीकानेर में इस बार विश्व प्रसिद्ध शादी ओलंपिक नहीं होगा। कोरोना के विकराल रूप का असर हर कहीं देखा जा सकता है। पुष्करणा सामूहिक शादियों में सेवा व सुविधाएं उपलब्ध करवाने वाली अग्रणीय संस्था रमक झमक संस्थान के अध्यक्ष प्रहलाद ओझा 'भैरुं' ने बताया कि विश्व भर के पुष्करणा ब्राह्मणों का सामूहिक शादियों का आयोजन जिसे वेडिंग ओलंपिक के नाम से जाना जाता है, वो इस बार 2021 में होना था । सावा शोधन ...
Read More

अगर नवरात्र में प्रतिदिन पूजा और व्रत करने में असमर्थ हो तो क्या करें

हमारे धर्म में नवरात्र में पूजा और व्रत को पृथ्वी लोक में जितने भी प्रकार के व्रत एवं दान हैं उससे भी बढ़कर बताया गया है । क्योंकि यह व्रत सदा धन-धान्य प्रदान करने वाला तथा सुख संतान की वृद्धि करने वाला है। देवी भागवत पुराण में नवरात्र के दिनों में देवी पूजन को आयु में वृद्धि तथा आरोग्य प्रदान करने वाला बताया गया है । यही नही बल्कि अगर कोई भक्त देवी की पूजा , व्रत बड़े ही भक्ति ...
Read More

श्री राम ने भी किया था नवरात्रा में नौ दिन देवी का व्रत

नवरात्र में व्रत के महत्व का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है स्वयं भगवान श्री राम ने भी पूरे 9 दिन देवी का विधिपूर्वक व्रत और पूजन किया था। भगवान श्री राम और लक्ष्मण वनवास के दौरान सीता माता के हरण हो जाने की बात से बहुत चिंतित थे। श्री राम और लक्ष्मण परस्पर परामर्श कर ही रहे थे कि आकाश मार्ग से देवऋषि नारद मुनि वहाँ पहुँचे। जब व्याकुल हुए राम चिंतित और व्याकुल हुए श्री राम को ...
Read More

 

 

 

शेयर करे